स्वास्थ्य

मैंटल सेल लिंफोमा का मिलेगा नया इलाज

मैंटल सेल लिंफोमा (एमसीएल) प्रतिरक्षी कोशिकाओं के बी-सेल्स में पैदा होता है जो ‘मैंटल जोन्स’ के नाम से पहचाने जाने वाले लिंफ नोड्स के क्षेत्र में एंटीबाडी बनाता है।

मैंटल सेल लिंफोमा एक प्रकार का ब्लड कैंसर है। इसकी भी रोकथाम या इलाज की दिशा में वेल कार्नेल मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने एक बड़ी सफलता हासिल करने का दावा किया है। उनके अनुसार, मैंटल सेल लिंफोमा (एमसीएल) एक विशिष्ट प्रकार के प्रोटीन पर बहुत हद तक निर्भर होता है, जो उसके जीन की अभिव्यक्ति को संयोजित या निर्देशित करता है। प्री-क्लीनिकल टेस्ट में उस प्रोटीन की गतिविधियों को ब्लाक करने में एक प्रयोगात्मक असरदार साबित हुई है।

क्या है मैंटल सेल लिंफोमा

लिंफोमा एक प्रकार का कैंसर है, जो लिंफ (लसीका) नोड्स और उन छोटे अंगों से शुरू होता है, जहां प्रतिरक्षी कोशिकाएं संक्रमण या रोगाणुओं को रोकने के लिए एकत्रित होती हैं। मैंटल सेल लिंफोमा (एमसीएल) प्रतिरक्षी कोशिकाओं के बी-सेल्स में पैदा होता है, जो ‘मैंटल जोन्स’ के नाम से पहचाने जाने वाले लिंफ नोड्स के क्षेत्र में एंटीबाडी बनाता है। इसका अधिकांश मामला खासतौर पर पुरुषों में 60-70 वर्ष की उम्र में सामने आते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button