बिज़नेसब्रेकिंग न्यूज़

EPFO से फरवरी में जुड़े 14 लाख से ज्यादा सदस्य

फरवरी 2022 में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) से कुल 14.12 लाख सदस्य जुड़े। यह जानकारी ईपीएफओ द्वारा जारी किए गए अस्थायी पेरोल डेटा से मिली है।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के बुधवार को जारी किए गए अस्थायी पेरोल डेटा से पता चलता है कि फरवरी 2022 में इससे 14.12 लाख सदस्य जुड़े हैं। श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के अनुसार, महीने-दर-महीने के हिसाब से पेरोल डेटा को देखें तो पिछले महीने (जनवरी) की तुलना में फरवरी में 31,826 सदस्यों की मामूली वृद्धि हुई है। वहीं, साल-दर-साल की तुलना करें तो फरवरी 2021 के मुकाबले फरवरी 2022 में 1,74,314 सदस्यों की वृद्धि देखी गई है। मंत्रालय की ओर से कहा गया कि अक्टूबर 2021 के बाद से शुद्ध सदस्यों की संख्या में लगातार वृद्धि हुई है, जो संगठन द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं में विश्वास प्रदर्शित करता है।

मंत्रालय के अनुसार, महीने के दौरान जुड़े कुल 14.12 लाख नए सदस्यों में से लगभग 8.41 लाख नए सदस्यों को पहली बार ईपीएफ और एमपी अधिनियम, 1952 के सामाजिक सुरक्षा कवर के तहत नामांकित किया गया है। वहीं, लगभग 5.71 लाख सदस्य ईपीएफ के कवर से बाहर हुए लेकिन अंतिम निकासी के लिए दावा करने के बजाय उन्होंने पिछले पीएफ खाते से अपने पैसे वर्तमान पीएफ खाते में स्थानांतरित कर लिए और ईपीएफओ में फिर से शामिल हो गए।

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के अनुसार, पेरोल डेटा की आयु-वार तुलना करने पर पता चलता है कि फरवरी 2022 में 22-25 वर्ष आयु- वर्ग के सबसे अधिक 3.70 लाख नए सदस्य ईपीएफओ से जुड़े। इसके बाद 29-35 वर्ष आयु- वर्ग के 2.98 नए सदस्य जुड़े। मंत्रालय के अनुसार, फरवरी में 18-25 वर्ष आयु- वर्ग के नए सदस्यों की संख्या महीने के दौरान जुड़े कुल सदस्यों के 45 फीसदी के बराबर है। इससे संकेत मिलता है कि पहली बार नौकरी चाहने वाले कई लोग बड़ी संख्या में संगठित क्षेत्र से जुड़े है।

पूरे भारत में पेरोल के आंकड़ों पर नजर डालें तो पता चलता है कि महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात, हरियाणा और दिल्ली में सबसे ज्यादा करीब 9.52 लाख नए सदस्य जुड़े हैं, जो सभी आयु वर्गो में कुल नए पेरोल वृद्धि का लगभग 67.49 प्रतिशत है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button