तकनीक

157 साल बाद बिहार में बनी दूसरी रेलवे सुरंग, 903 फीट है लंबाई

157 साल बाद बिहार को दूसरा रेलवे टनल मिल गया है

157 साल बाद बिहार को दूसरा रेलवे टनल मिल गया है। मुंगेर जिले में रतनपुर-जमालपुर के बीच नई रेल सुरंग का काम पूरा होने के बाद 29 जनवरी से ट्रेनों का परिचालन शुरू हो गया। दो साल में बनी इस सुरंग पर कुल 45 करोड़ खर्च हुए हैं। नई सुरंग का निर्माण अक्टूबर 2019 से शुरू हुआ था। इस रूट से 24 घंटे में करीब 100 ट्रेनें गुजरती हैं और अब डबल टनल की वजह से ट्रेनों को इसे पार करने के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा। राज्य की पहली सुरंग भी जमालपुर में है, जिसका निर्माण 1861 में ईस्ट इंडियन रेलवे कंपनी ने कराया था। पुरानी सुरंग से 25 मीटर की दूरी पर नई सुरंग का निर्माण कराया गया है। नई रेल सुरंग में आस्ट्रेलिया की तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। इसका डिजाइन भी अलग है। सुरंग की लंबाई 903 फीट है। चौड़ाई 7 मीटर और ऊंचाई 6.10 मीटर है। इस रूट पर अभी तक दो किलोमीटर तक सिंगल लाइन पर ट्रेनों का परिचालन होता था। डबल लाइन नहीं होने की वजह से ट्रेनों को रतनपुर या जमालपुर में रोकना पड़ता था। अब दूसरे टनल के तैयार होने के बाद ट्रेनों को कॉसिंग के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा।
बता दें कि शुक्रवार को पूर्वी सर्किल के मुख्य संरक्षा आयुक्त एएम चौधरी ने राज्य की दूसरी रेल सुरंग की जांच पूरी कर ली थी। रतनपुर-जमालपुर के बीच बनी नई रेल सुरंग और दोहरीकरण का सीआरएस ने पहले ट्रॉली से जांच की, फिर पैदल चलकर सुरंग का निरीक्षण किया। लगभग चार घंटे तक निरीक्षण के बाद इलेक्ट्रिक इंजन के साथ आठ कोच लगी ट्रेन से 125 किमी की रफ्तार से रेलवे ट्रैक और सुरंग में स्पीड ट्रायल किया गया। जांच में कहीं कोई त्रुटि नहीं पाई गई।  जमालपुर के रास्ते अगरतला से आनंद विहार टर्मिनल के बीच चलने जा रही तेजस राजधानी एक्सप्रेस भी चलेगी। मुख्य सुरक्षा आयुक्त सुबह में अधिकारियों के साथ ट्रॉली से जमालपुर से रतनपुर तक गए। सुरंग के अंदर और बाहरी हिस्से की बनावट को बारीकी से देखा। स्पीड ट्रायल के लिए सीआरएस स्पेशल ट्रेन 3.08 बजे रतनपुर से खुली और 3.14 बजे जमालपुर पहुंच गई।  - रतनपुर-जमालपुर के बीच नई रेल सुरंग से होकर बनाई गई डबल लाइन में एनआई वर्क पूरा होने के बाद शनिवार 29 (जनवरी) से ट्रेन परिचालन सामान्य हो गया। शनिवार से सभी रद्द ट्रेनों का परिचालन भागलपुर-जमालपुर रेलखंड पर शुरू हो गया। इसमें बांका-राजेन्द्रनगर इंटरसिटी, साहिबगंज-दानापुर इंटरसिटी, मालदा-किऊल इंटरसिटी, गरीब रथ एक्सप्रेस, विक्रमशिला एक्सप्रेस सहित सभी पैसेंजर ट्रेनें शामिल थी।  -  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button