अलीगढ़उत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़

अलीगढ़ : नगर निगम के कानो में शीश व आंखों में चुका है मोतियाबिंद – कोंग्रेस नेता आगा यूनुस

अलीगढ़ : शहर में स्मार्ट सिटी ययोजना लागू होने और करोड़ों अरबों रुपया खर्च के बाद भी मामूदनगर मोहल्ले के वार्ड नंबर-51 के गरीब तबके के मजदूर शहरवासियों को मूलभूत सुविधाओं से वंचित रखा गया है

अलीगढ़ : शहर में स्मार्ट सिटी ययोजना लागू होने और करोड़ों अरबों रुपया खर्च के बाद भी मामूदनगर मोहल्ले के वार्ड नंबर-51 के गरीब तबके के मजदूर शहरवासियों को मूलभूत सुविधाओं से वंचित रखा गया है ओर गरीब तबके के लाचार मजदूर लोगों को स्मार्ट सिटी की मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो पा रही है। वार्ड नं-51में साफ-सफाई न होने से गंदगी और दुर्गंध के बीच लोग जी रहे हैं। खुली नालियां हमेशा लोगों को उनकी मौत को दावत दे रही है। गंदगी के कारण संक्रामक बीमारियों का खतरा बना हुआ है। समस्या का समाधान न होने पर अब लोगों ने गंदगी और दुर्गंध के बीच ही रहने को अपनी नियति मान लिया है। हालांकि, कुछ लोग इसके लिए निगम के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है।

बतादें कि इलाके में मूलभूत सुविधा और विकास के लिए तरस रहे लोगों ने अपने नारकीय मोहल्ले की हकीकत दिखाने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता इंजीनियर आगा युनुस व महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष जरीना खान को मौके पर बुलाया । जिसके बाद जनता के बुलावे पर कांग्रेस नेता लोगों के बीच पहुंचे और उनकी परेशानियों और समस्याओं को सुना। जिसके बाद मूलभूत सुविधाओं से वंचित जनता के साथ कांग्रेस नेताओं ने क्षेत्र का भ्रमण किया। जिसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं इंजीनियर आगा युनुस ने कहा कि महमूद नगर में नारकीय जीवन जी रही जनता के बुलावे पर वह पहुंचे। उन्होंने जब इलाके की जनता के साथ क्षेत्र का भ्रमण किया तो देखा कि इस क्षेत्र की जनता नारकीय जीवन जीने के साथ ही नरक से भी बदतर जिंदगी जीने को मजबूर है।

कांग्रेस नेता ने नगर निगम को खुले शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा कि महमूद नगर की जनता के साथ हो रहे इस छलावे के लिए उनके द्वारा नगर निगम को 3 दिन का अल्टीमेटम दिया जा रहा है। नगर निगम जनता के बीच आए और सर्वे करते हुए समग्र विकास की बात रखें। कहा तमाम वार्डो में असमानता बना दी गई है नगर निगम ने एक अमीरों का वार्ड अलग बना दिया ओर गरीबों का वार्ड अलग बना दिया। जिस गरीब बस्ती में रहने वाले गरीब तबके के मजदूर और लाचार लोग हैं। उनको नगर निगम में सभी मूलभूत सुविधाओं से वंचित कर दिया हैं। जबकि क्षेत्र में महिलाओं का कहना है कि नगर निगम का सफाई कर्मचारी से लेकर कोई भी कर्मचारी गरीबों की बस्ती में नाली साफ करने से लेकर कूड़ा करकट उठाने तक के लिए नहीं पहुंचता है।उन्होंने कहा कि वह जनता के अधिकारों को हर हाल में लेकर रहेंगे।कहा क्योंकि में जनता का सेवक हूं और हमें अपने अधिकारों को लेना भी आता है और छीनना भी आता है।जबकि अब महमूदनगर के क्षेत्रीय जनता इलाकों की नालियों और सड़कों पर इकट्ठा हुए कूड़े को खुद साफ नहीं करेंगी। बल्कि अब नगर निगम तुमको ही नालियों में भरी गंदगी के साथ सड़कों पर इकट्ठे कूड़े को उठाना होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button