अलीगढ़उत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़

अलीगढ़ – दो साल के बाद एएमयू में मनाय गया सर सैय्यद डे समारोह

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के संस्थापक सर सैयद अहमद खान का 205 वां जन्म दिवस सर सैय्यद डे के रूप में मनाया जा रहा है. जिसके तहत जामा मस्जिद पर सर सैयद अहमद खान की मजार पर कुलपति व शिक्षकों ने चादर पोशी की.

Advertisements
AD

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के संस्थापक सर सैयद अहमद खान का 205 वां जन्म दिवस सर सैय्यद डे के रूप में मनाया जा रहा है. जिसके तहत जामा मस्जिद पर सर सैयद अहमद खान की मजार पर कुलपति व शिक्षकों ने चादर पोशी की. इस दौरान एएमयू कुलपति तारिक मंसूर ने सर सैयद डे की बधाई दी. कुलपति तारिक मंसूर ने कहा कि सर सैयद के संदेश को आगे लेकर जाना है. उन्होंने भाईचारा, शांति, सांप्रदायिक सौहार्द, शिक्षा को बढ़ावा दिया. इस मौके पर सर सैयद अहमद खान का जन्म दिवस कार्यक्रम गुलिस्ता ए सैयद पार्क में मनाया गया. इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष और प्रसिद्ध कानून विद प्रोफेसर डॉक्टर ताहिर महमूद मुख्य अतिथि रहे. वही पंजाब राज्य मानवाधिकार आयोग के पूर्व अध्यक्ष, पटना उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति इकबाल अहमद अंसारी विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे. सर सैय्यद डे पर मानद अतिथि के रूप में देश के राष्ट्रीय अभिलेखागार संस्कृतिक मंत्रालय के महानिदेशक चंदन सिन्हा ने भी भाग लिया.

इस कार्यक्रम के अवसर पर अमेरिका की इतिहासकार एमेरिट्स प्रो. बारबरा डेली मेटकाफ को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन को राष्ट्रीय स्तर पर सर सैयद एक्सीलेंस एवार्ड दिया गया. प्रोफेसर बारबरा देली मेटकाफ दक्षिण एशिया के इतिहास की विशेषज्ञ है. और 1970 के दशक से ही मुसलमानों के मुद्दों पर नजर रखती है. वही मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों से संबंधित मेधावी छात्रों को अध्ययन के लिए विभिन्न स्तरों पर छात्रवृत्ति प्रदान करती है.

रिपोर्टर – लक्ष्मन सिंह राघव

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button