अलीगढ़उत्तर प्रदेशक्राइम न्यूज़देशब्रेकिंग न्यूज़

अलीगढ़ : हॉस्पिटल की लापरवाही के कारण महिलाओं की हो रही मौत

अलीगढ़ अतरौली क्षेत्र के रामघाट रोड पर सांवरिया हॉस्पिटल बिना लाइसेंस के धड़ल्ले से चल रहा है। यहां एक भी डॉक्टर की सुविधा नहीं है जिसकी वजह से महिलाओं की आए दिन मौत हो रही है।

अलीगढ़ अतरौली क्षेत्र के रामघाट रोड पर सांवरिया हॉस्पिटल बिना लाइसेंस के धड़ल्ले से चल रहा है। यहां एक भी डॉक्टर की सुविधा नहीं है जिसकी वजह से महिलाओं की आए दिन मौत हो रही है। इससे पहले भी इसी हॉस्पिटल में डिलीवरी के दौरान महिलाओं की मौत हो चुकी है। लेकिन अतरौली क्षेत्र में लगातार खबर छपने के बाद ही प्रशासन व शासन व क्षेत्रीय प्रतिष्ठित लोग दोनों ही मौन धारण किये हुए हैं आए दिन अतरौली के प्राइवेट हॉस्पिटल में डिलीवरी के दौरान महिलाओं की हत्या हो रही हैं जिसमें हंगामा होने के बाद या तो फैसला कर लिया जाता है या सीएमओ अलीगढ़ से सांठगांठ कर धड़ल्ले से प्राइवेट हॉस्पिटल चलाया जा रहा है।

जानकारी के अनुसार आज अतरौली क्षेत्र के ग्राम सहनौल की यशोदा देवी पति टिंकू कुमार उम्र लगभग 26 वर्ष की महिला गर्भवती थी। जिसको परेशानी होने पर टिकू अपनी पत्नी को लेकर अतरौली में चल रहे सांवरिया हॉस्पिटल में लेकर आए। जहां पर दवा के पर्चे भी बन चुके थे और ऑपरेशन के पैसे भी जमा हो गए थे लेकिन हालत बिगड़ने के बावजूद संजय छोकर स्वयं ही महिला का इलाज करने लगे लेकिन महिला की तबीयत बिगड़ती चली गई।

जिसके बाद परिवार के लोगों ने बहुत गुजारिश की, कि महिला की स्थिति ज्यादा खराब हो रही है, हमें अलीगढ़ ले जाने दो। लेकिन परिवार के लोगों को भरोसा दिलाते हुए, इलाज के लिए अलीगढ़ नहीं जाने दिया।इसी वजह से यशोदा देवी की मौत हो गई। बतादें कि यशोदा देवी ग्राम चंदौआ गोवर्धनपुर की रहने वाली थी। उसकी 8 वर्ष पहले ग्राम सहनौल में टिकू के साथ शादी हुई थी। जिससे एक 5 वर्ष का बच्चा भी है वह भी ऑपरेशन से ही हुआ था।

सांवरिया हॉस्पिटल में यशोदा देवी की मौत के बाद परिजन व ग्राम वासियों ने सांवरिया हॉस्पिटल में हंगामा खड़ा कर दिया और लड़की के पिता ने कहा कि यह सभी अधिकारियों और प्रशासन की सांठगांठ है। अतरौली क्षेत्र में काफी संख्या में प्राइवेट हॉस्पिटल चल रहे हैं। जिनके पास ना तो कोई डिग्री है और ना ही ऑपरेशन करने की कोई सुविधा है लेकिन फिर भी प्रशासन की आंखों देखी यह अतरौली में प्राइवेट हॉस्पिटल इस तरह चल रहे हैं जैसे कि परचून की दुकान जैसे बिना लाइसेंस से चल जाती है।

रिपोर्टर – लक्ष्मन सिंह राघव

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button