विदेश

कंप्यूटर्स, सेमीकंडक्टर्स और एयरक्राफ्ट के पार्ट्स की सप्लाई पर, कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाने की तैयारी में अमेरिका

यूक्रेन पर रूसी हमले की आशंका के बीच अमेरिका ने भी बड़ी तैयारी कर ली है। यदि रूस की ओर से यूक्रेन पर अटैक किया जाता है

Advertisements
AD
यूक्रेन पर रूसी हमले की आशंका के बीच अमेरिका ने भी बड़ी तैयारी कर ली है। यदि रूस की ओर से यूक्रेन पर अटैक किया जाता है तो बाइडेन प्रशासन की ओर से टेक प्रोडक्ट्स की सप्लाई पर रोक लगाई जा सकती है। कॉमर्शियल इलेक्ट्रॉनिक्स, कंप्यूटर्स, सेमीकंडक्टर्स और एयरक्राफ्ट के पार्ट्स की सप्लाई इससे प्रभावित हो सकती है। पूरे मामले की जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि अमेरिका की ओर से उन कंपनियों के प्रोडक्ट्स की सप्लाई रोक लगाई जा सकती है, जिनके एक्सपोर्ट के लिए कंपनियों को अमेरिकी सरकार से मंजूरी लेनी होती है। इन लाइसेंसों की मंजूरी बाइडेन प्रशासन खारिज कर सकता है। अमेरिका की रणनीति यह है कि लेजर, टेलिकॉम इक्विपमेंट्स से लेकर मैरीटाइम आइटम्स तक की सप्लाई पर रोक लगा दी जाए। मंगलवार को बाइडेन प्रशासन ने रूस पर जो प्रतिबंध लगाए हैं, उनमें यह शामिल नहीं है। अमेरिकी सरकार के एक अधिकारी ने कहा, ‘यदि पुतिन यूक्रेन से जंग में आगे बढ़ते हैं तो फिर हम भी आगे बढ़ेंगे। हमारी तरफ से आर्थिक प्रतिबंधों को लागू किया जा सकता है। इसके साथ ही एक्सपोर्ट पर भी कंट्रोल हो सकता है। अभी हम इस पर ऐलान करने वाले हैं।’ अधिकारी ने कहा कि हम यह जानने की कोशिशकर रहे हैं कि कौन सी तकनीकी चीजों की जरूरत रूस को ज्यादा है। उन पर हम रोक लगाएंगे ताकि वह ज्यादा प्रभावित है। यही नहीं अमेरिका की रणनीति दूसरे देशों को भी इन प्रतिबंधों में साथ लाने की है। अमेरिकी अफसर ने कहा, ‘बड़ी संख्या में हमने देशों की लिस्ट तैयार की है, जो एक्सपोर्ट कंट्रोल के नियमों को लागू करेंगे।’ दरअसल अमेरिका की रणनीति यह है कि युद्ध की स्थिति में रूस की औद्योगिक उत्पादकता को प्रतिबंधों के जरिए कमजोर किया जा सके। खासतौर पर तकनीकी मामलों में रूस पर इन प्रतिबंधों को लगाने की तैयारी की जा रही है।
खुलकर अमेरिका के पाले में जापान, रूस पर लगाए प्रतिबंध इस बीच जापान ने भी रूस पर कई पाबंदियां लगाने का ऐलान कर दिया है। जापान में रूसी बॉन्डों को जारी करने पर लगा दी गई है। इसके अलावा कई रूसी नागरिकों की संपत्तियों को भी फ्रीज कर दिया गया है। यही नहीं जापान आने-जाने पर भी रोक लगाई गई है। जापान ने कहा कि रूस ने यूक्रेन की संप्रभुता पर हमला किया है और अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन किया है। हम इन कदमों कती कड़ी निंदा करते हैं और रूस से अपील करते हैं कि वह कूटनीतिक तरीकों से मसलों का हल करने पर विचार करे। कनाडा से भी रूस को लगा झटका, पाबंदियों का ऐलान कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने मंगलवार को रूस पर पहले राउंड की पाबंदियों का ऐलान कर दिया। आने वाले दिनों में ऐसी रोक और बढ़ाई जा सकती हैं। ट्रूडो ने कहा कि हमारी सरकार ने फैसला लिया है कि रूस ने यूक्रेन के जिन प्रांतों को स्वतंत्र घोषित किया है, उनसे कोई भी कनाडाई आर्थिक डील नहीं करेगा। इसके अलावा रूसी बॉन्ड की खरीद पर भी रोक लगाई जाएगी। यही नहीं उन रूसी सांसदों पर भी पाबंदियां लगाई जाएंगी, जिन्होंने डोनेत्सक और लुहान्सक को स्वतंत्र राज्य घोषित करने के प्रस्ताव के समर्थन में मतदान किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button