देशब्रेकिंग न्यूज़

बिजली संयंत्रों के पास पर्याप्त कोयला पहुंचाना कोल इंडिया की प्राथमिकता

देश के कई राज्‍यों कोयले की किल्‍लत को देखते हुए सार्वजनिक क्षेत्र की कोयला खनन कंपनी कोल इंडिया का कहना है

सार्वजनिक क्षेत्र की कोयला खनन कंपनी कोल इंडिया ने कहा कि ताप ऊर्जा संयंत्रों को पर्याप्त ईंधन की आपूर्ति करना उसकी ‘प्राथमिकता’ है। कंपनी ने अपने कर्मचारियों से चालू वित्त वर्ष में 70 करोड़ टन के कोयला उत्पादन और उठाव के लक्ष्य को पार करने के लिए अपने प्रयासों को तेज करने को कहा है।

सार्वजनिक क्षेत्र की कोयला खनन कंपनी कोल इंडिया ने कहा कि ताप ऊर्जा संयंत्रों को पर्याप्त ईंधन की आपूर्ति करना उसकी ‘प्राथमिकता’ है। कंपनी ने अपने कर्मचारियों से चालू वित्त वर्ष में 70 करोड़ टन के कोयला उत्पादन और उठाव के लक्ष्य को पार करने के लिए अपने प्रयासों को तेज करने को कहा है।

बिजली संकट गहराया, आपूर्ति में 10.77 गीगावाट तक कमी

भीषण गर्मी के बीच व्यस्त समय में बिजली कमी भी बढ़ी है। इस सप्ताह सोमवार को बिजली की कमी जहां 5.24 गीगावाट थी, वही गुरुवार को यह बढ़कर 10.77 गीगावाट हो गई। राष्ट्रीय ग्रिड परिचालक, पावर सिस्टम आपरेशन कारपोरेशन (पीओएसओसीओ) के ताजा आंकड़ों से पता चला है कि रविवार को व्यस्त समय में बिजली की कमी सिर्फ 2.64 गीगावाट थी, जो सोमवार को 5.24 गीगावाट, मंगलवार को 8.22 गीगावाट, बुधवार को 10.29 गीगावाट और बृहस्पतिवार को 10.77 गीगावाट हो गई।

207.11 गीगावाट तक पहुंची बिजली की मांग

आंकड़ों के मुताबिक 29 अप्रैल को अधिकतम पूरी की गई बिजली की मांग 207.11 गीगावाट के सर्वकालिक उच्चस्तर को छू गई। इसके चलते शुक्रवार को बिजली की कमी घटकर 8.12 गीगावाट रह गई। दिलचस्प तथ्य यह है कि भीषण गर्मी के बीच इस सप्ताह में बिजली की आपूर्ति तीन बार रिकार्ड स्तर पर पहुंची। मंगलवार को रिकार्ड 201.65 गीगावाट बिजली की मांग थी और गुरुवार को 204.65 गीगावाट तक पहुंच गई थी।

मांग में तेजी से गहराया संकट

विशेषज्ञों का कहना है कि इन आंकड़ों से स्पष्ट पता चलता है कि बिजली की मांग में तेजी आई है और कुछ ही दिनों में इसकी वजह से देश में बिजली संकट गहरा गया है। इस संकट को दूर करने के लिए सभी हितधारकों को ताप बिजलीघरों में कम कोयले के भंडार, परियोजनाओं पर रेक को तेजी से खाली करने और इनकी उपलब्धता बढ़ाने पर ध्यान देना होगा। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button