लाइफस्टाइल

डियर लेडीज, दो साल में दो बच्चों की मां बनना जोक नहीं, आपको अपनी सेहत के प्रति सजग हो जाना चाहिए।

गर्भनिरोधकों का इस्तेमाल सिर्फ सेक्स की आज़ादी नहीं देता, इनका मुख्य उद्देश्य जच्चा-बच्चा को सेहतमंद रखना है।

गर्भनिरोधकों का इस्तेमाल सिर्फ सेक्स की आज़ादी नहीं देता, इनका मुख्य उद्देश्य जच्चा-बच्चा को सेहतमंद रखना है। विशेषज्ञ दो गर्भावस्थाओं के बीच एक आदर्श अंतराल (Birth spacing) की वकालत करते हैं। लॉकडाउन के दौरान कई जोड़ों ने बेबी प्लान किए। पर कहीं आप भी उन्हीं में से एक तो नहीं, जिन्होंने दो लॉकडाउन में दो बच्चों को जन्म दिया? अगर ऐसा है, तो आपको अपनी और अपने  बेबी की सेहत के प्रति सजग हो जाना चाहिए। एक कॉमेडी शो का एंकर बहुत गर्व से इस बात को शेयर करता है कि वह दो लॉकडाउन में दो बच्चों का पिता बना। पर जब मां और बच्चे की सेहत की बाती आती है, तो यह एक गंभीर गलती हो सकती है।  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button