मनोरंजन

स्कूल की पढ़ाई छोड़ एक्टिंग करने लगी थीं दिव्या भारती

दिव्या भारती अब इस दुनिया में नहीं रही हैं। 90 के दशक में वह बॉलीवुड की टॉप अभिनेत्री बन गई थीं।

। दिव्या भारती बॉलीवुड की उन अभिनेत्रियों में से एक थीं, जिन्होंने बहुत कम समय में फिल्मी दुनिया में काफी नाम कमाया था। उनके चाहने वाले लाखों फैंस थे, लेकिन 5 मार्च 1993 को अचानक हुई उनकी मौत ने सभी को हिलाकर रख दिया था। दिव्या भारती की मौत को लेकर हमेशा से अलग-अलग थ्योरी रही है। उनकी पुण्यतिथि पर आज हम आपको उनसे जुड़ी खास बातें बताते हैं।

दिव्या भारती का जन्म 25 फरवरी 1974 को मुंबई में हुआ था। उन्होंने अपनी पढ़ाई मुंबई से ही की थी। दिव्या भारती को बचपन से ही एक्टिंग करना पसंद था। इसी वजह से उन्होंने महज 16 साल की उम्र में पढ़ाई छोड़कर एक्टिंग करना शुरू कर दिया था। दिव्या भारती ने साल 1990 में तेलुगु फिल्म ‘बोब्बिली राजा’ से एक्टिंग की शुरुआत की थी। इसके बाद उन्होंने साउथ सिनेमा की कई शानदार फिल्मों में काम किया।

दिव्या भारती ने बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत 19 साल की उम्र में फिल्म ‘विश्वात्मा’ से की थी। इस फिल्म में उनके साथ सनी देओल, अमरीश पुरी, चंकी पांडेय और नसीरुद्दीन शाह सहित कई कलाकार मुख्य भूमिका में थे। साल 1992 में फिल्म ‘विश्वात्मा’ को दर्शकों को खूब पसंद किया था। इसके बाद दिव्या भारती ने ऋषि कपूर, शाहरुख खान और सुनील शेट्टी जैसे बड़े कलाकारों के साथ स्क्रीन शेयर की।

दिव्या भारती ने ‘दिल का क्या कसूर’, ‘शोला और शबनम’, ‘दीवाना’, ‘बलवान’ और ‘दिल ही तो है’ सहित कई शानदार फिल्मों में काम किया था। इन सभी फिल्मों ने उन्हें बॉलीवुड की टॉप अभिनेत्री के मुकाम पर पहुंचा दिया था। 90 के दशक में उनका स्टारडम देखते ही बनता था। फिल्मों के साथ दिव्या भारती ने अपनी निजी जिंदगी को लेकर हमेशा चर्चा में रहती थीं। उन्होंने निर्माता-निर्देशक साजिद नाडियाडवाला से गुपचुप तरीके से शादी की थी।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो दिव्या भारती के परिवार वाले उनकी इस शादी के खिलाफ थे, लेकिन उन्होंने अपने परिवार को बिना बताए साजिद नाडियाडवाला से शादी कर ली थी। 5 अप्रैल 1993 की रात को दिव्या भारती की आखिरी रात साबित हुई। हिंदी सिनेमा की इस खूबसूरत अदाकारा ने हमेशा के लिए दुनिया को छोड़ दिया था। दिव्या की मौत उसी रात मुंबई के वर्सोवा इलाके में एक पांच मंजिला इमारत से नीचे गिरने की वजह से हुई थी।

कुछ लोगों ने माना कि यह आत्महत्या थी। जबकि कुछ लोगों को इस मौत में षड्यंत्र के तौर पर देखते हैं और वह इसे मर्डर मान रहे थे। मुंबई पुलिस इस मामले में सबूत जुटाने में नाकामयाब रही और उनकी मौत के लगभग 5 साल के बाद इस केस की फाइल 1998 में बंद कर दी गई। ऐसे में आज तक सही तौर पर दिव्य भारती की मौत की वजह का पता नहीं चल पाया है।  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button