विदेश

पोप बेनेडिक्ट बोले- मैं उस मीटिंग में मौजूद था, जिसमें बाल यौन शोषण के एक आरोपी प्रीस्ट के बारे में विचार

94 साल के पूर्व पोप बेनेडिक्ट (Pope Benedict XVI) ने आखिरकार मान लिया है कि 1980 में वो उस मीटिंग में मौजूद थे,

94 साल के पूर्व पोप बेनेडिक्ट (Pope Benedict XVI) ने आखिरकार मान लिया है कि 1980 में वो उस मीटिंग में मौजूद थे, जिसमें बाल यौन शोषण के एक आरोपी प्रीस्ट के बारे में विचार किया गया था। कुछ दिन पहले जर्मनी की एक लॉ फर्म की रिपोर्ट में पोप के हवाले से कहा गया था कि वो ऐसी किसी मीटिंग का हिस्सा नहीं थे। पुराना बयान बदलने पर बेनेडिक्ट ने सफाई दी- ऐसा मेरे स्टेटमेंट की एडिटिंग में गलती के चलते हुआ।

बेनेडिक्ट 1977 से 1982 तक म्यूनिख के आर्कबिशप थे। इस दौरान बाल यौन शोषण के चार मामलों की जानकारी मिली थी। बाद में चर्च ने खुद इस मामले की जांच का जिम्मा जर्मनी की एक लॉ फर्म को दिया था। इसने चर्च को दिखाने के बाद यह रिपोर्ट सार्वजनिक की है।

सेक्रेटरी ने जारी किया नया बयान पोप ने पहले कहा था कि इन मामलों की चर्चा की बात उन्हें याद नहीं है। उन्होंने यह भी कहा था कि इन मामलों को हैंडल करने में उन्होंने किसी तरह की गलती नहीं की थी। अब उनके सेक्रेटरी जॉर्ज गेनस्वैन ने पोप के हवाले से नया बयान जारी कर कहा है कि पुराना बयान स्टेटमेंट में एडिटिंग की वजह से कुछ गलत हो गया था। इसके पीछे कोई गलत इरादा नहीं है। इसके लिए हम माफी चाहते हैं।

जांच का क्या मकसद था इस मामले में एक और आर्कबिशप की भूमिका पर भी सवालिया निशान लगे हैं, जो फिलहाल वर्तमान पोप यानी पोप फ्रांसिस के करीबी सहयोगी हैं। इस मामले में चर्च ने खुद जांच की पहली की थी। इस जर्मन लॉ फर्म को यह जिम्मेदारी दी गई थी कि वो 1945 से 2019 के दौरान हुए मामलों की जांच करे। उसे खास हिदायत यह देखने के लिए दी गई थी कि क्या चर्च के आला पदों पर बैठे लोगों ने अपनी जिम्मेदारियों को सही तरीके से अंजाम दिया या नहीं।

जिन चार मामलों में पूर्व पोप पर लापरवाही के आरोप लगे हैं, वे सभी चाइल्ड अब्यूज यानी बाल यौन शोषण से जुड़े हैं। तब बेनेडिक्ट को नाम जोसेफ रेटिंगर था और वो म्यूनिख चर्च के आर्कबिशप थे। 1977 से 1982 तक वो इस पद पर रहे। आरोप है कि उनके आर्कबिशप रहते हुए ये अपराध हुए थे। इतना ही नहीं जिन लोगों पर आरोप लगे थे वे सभी चर्च में अहम पदों पर काम करते रहे।

पद से इस्तीफा दिया था पोप बेनेडिक्ट फिलहाल, 94 साल के हैं और वेटिकन रहते हैं। कैथोलिक चर्च के 600 साल के इतिहास में बेनेडिक्ट पहले पोप थे जिन्होंने 2013 में पद से इस्तीफा दिया था। हालांकि, इसकी वजह थकान बताई थी।

पोप के रूप में उनका कार्यकाल पादरियों पर लगने वाले यौन उत्पीड़न के आरोपों उनके बटलर द्वारा निजी दस्तावेज सार्वजनिक करने के विवादास्पद मामले और चर्च में महिलाओं की अधिक भागीदारी संबंधी मांगो से घिरा रहा था।

अव वेटिकन के कानून सख्त रिपोर्ट में आरोप लगाया है कि म्युनिख के आर्कबिशप कार्डिनल रिनहार्ड ने दो मामलों में कार्रवाई नहीं की। इस मामले में मार्क्स ने जून 2021 में पोप फ्रांसिस को इस्तीफे की पेशकश भी की थी। फ्रांसिस ने इस्तीफा स्वीकार नहीं किया था। इसके कुछ दिन पहले ही उन्होंने वेटिकन के क्रिमिनल लॉ में बदलाव किए थे। यौन शोषण के मामलों में कानून को काफी सख्त बनाया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button