अयोध्याउत्तर प्रदेशस्वास्थ्य

साफ-सफाई से होगा संचारी रोगों का खात्मा: बृजेश पाठक

डिप्टी सीएम ने अयोध्या के मसौधा सीएचसी से संचारी रोग नियंत्रण अभियान का शुभारंभ किया

लखनऊ, 1 अक्टूबर संचारी रोगों से मुकाबला आसानी से किया जा सकता है। इसके लिए सरकारी महकमों का सहयोग करें। सभी अपनी जिम्मेदारी निभाएं। घर के आस-पास सफाई रखें। मच्छरों को पनपने से रोके। यदि कहीं जलभराव हो तो उसे खत्म करने प्रयास करें। इससे काफी हद तक संचारी रोगों से बचाव मुमकिन है। यह टिप्स उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने दी।

शनिवार को उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने अयोध्या स्थित मसौधा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) से संचारी रोग नियंत्रण अभियान का शुभारंभ किया। प्रदेश भर में 31 अक्टूबर तक विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलेगा। उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डेंगू, मलेरिया, कालाजार, जपानी इंसेफलाइटिस समेत दूसरी बीमारियों को खत्म करने का बीड़ा उठाया है। हम मुख्यमंत्री जी के संकल्प को पूरा करेंगे। घर, कार्यास्थल के गंदगी नहीं फैलाएंगे। कूड़ा कचरा तय स्थान पर फेकेंगे।

समाज के सभी वर्ग करें सहयोग उप मुख्यमंत्री ने कहा कि डेंगू-मलेरिया, जपानी इंसेफलाइटिस, एक्यूट इंसेफलाइटिस समेत अन्य मच्छरों के काटने से होने वाली बीमारियों को खत्म करने के लिए जागरुकता फैलाने की जरूरत है। समाज के सभी लोग अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाहन करें। तो काफी हद तक संचारी रोगों का खात्मा हो सकता है।

स्कूलों को अभियान से जोड़े उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि लोगों को जागरुक करने के लिए संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जा रहा है। अभियान को सफल बनने के लिए स्वास्थ्य समेत 12 विभागों को लगाया गया है। नगर निगम, पंचायती राज विभाग शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में व्यापक सफाई अभियान चलाएं। जलभराव खत्म करे। ताकि मच्छर न पनप सकें। उन्होंने कहा कि बच्चों को भी जागरुक करें। इसके लिए स्कूलों को भी अभियान से जोड़ें। जिला विद्यालय निरीक्षक बेसिक शिक्षा अधिकारी इसका प्रबंध करें। प्रत्येक क्लास में संचारी रोगों को लेकर एक क्लास हो। आसान शब्दों में बच्चों को संचारी रोग, कारण व बचाव के तरीके बताए जाएं। प्रतियोगिताएं भी करा सकते हैं।

सात से 21 अक्तूबर तक दस्तक अभियान उप मुख्यमंत्री ने कहा कि 7 से 21 अक्टूबर तक दस्तक अभियान भी चलाया जाएगा। इसमें आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर बुखार के रोगियों, इंफ्लुएंजा व इससे जुड़ी बीमारियों की पहचान करें। टीबी मरीजों की पहचान करें। कुपोषित बच्चों की सूची बनाएं। बुखार पीड़ितों की पहचान करें। उन्हें सरकारी अस्पताल भेजकर इलाज कराने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि अभियान का मकसद लोगों को जागरुक करना है। बीमारियों से बचाव के तरीके बचाने हैं। सरकारी योजनाओं के बारे में भी जागरुक करें।

12 विभागों की जिम्मेदारी उप मुख्यमंत्री ने बताया कि स्वास्थ्य के साथ बाल विकास पुष्टाहार, शिक्षा, पंचायती राज, ग्राम्य विकास, दिव्यांगजन कल्याण, पशु पालन, कृषि, नगर विकास, चिकित्सा शिक्षा व सूचना विभाग सहयोग कर रहे हैं।

 

रिपोर्ट- आमिर हुसैन रिजवी, एपेक्स न्यूज इंडिया, लखनऊ

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button