बिज़नेस

इस काम के लिए अब भी लगते हैं कतार में, अजी छोड़िए! मोबाइल कब आएगा काम

इस ऐप के बारे में अधिकतर लोगों को पता नहीं है, इसलिए वो भागते हुए आते हैं और काउंटर पर लाइन में लग जाते हैं. हालांकि बीस मीटर का दायरा तकनीकी वजहों से दिया गया है. वहीं डिपार्टमेंट ने इस पेपरलेस टिकट को रद्द करने की इजाजत नहीं दी है.

इस काम के लिए अब भी लगते हैं कतार में, अजी छोड़िए! मोबाइल कब आएगा काम सही जानकारी हो तो आदमी कभी भी और किसी भी तरह की परेशानी से बच सकता है. अक्सर बहुत सारे लोग जानकारी के अभाव में आज भी प्लेटफॉर्म टिकट (Platform Ticket) या फिर अनारक्षित टिकट (Unreserved Ticket) के लिए रेलवे स्टेशनों पर लंबी-लंबी कतारों में खड़े हो जाते हैं.

आप के काम की खबर

ऐसे में यूटिलिटी सेगमेंट में आज हम आपके लिए लाए हैं ऐसी जानकारी जिसका फायदा उठाने के साथ आप कोरोना काल में भीड़ से बचाव करके अपना काम बखूबी पूरा कर सकेंगे.

मोबाइल पर उठाएं सुविधा का लाभ

दरअसल आप इस सुविधा का लाभ अपने मोबाइल पर आसानी से उठा सकते हैं. इंडियन रेलवे (Indian Railway) ने कोरोना काल की बंदिशों और लोगों का समय बचाने के साथ अपने स्टाफ का काम आसान करने के लिए ये खास ऐप लॉन्च किया है. रेलवे का कहना है कि यह ऐप जरनल टिकट बुक करने के लिए सबसे बेहतरीन विकल्प है

UTS ऐप बनेगा मददगार

इसके तहत अब प्लेटफॉर्म टिकट (Platform Ticket) और जनरल टिकट (General Ticket) बनाने की सुविधा यात्रियों को भी दी गई है. ऐसे में आप रेलवे स्टेशन पर उमड़ने वाली भीड़ से बचने के लिए UTS ऐप के जरिये ऑनलाइन टिकट बनवा सकते हैं. इस ऐप के जरिए टिकट बनवाना भी बेहद आसान है. इसके लिए न तो आपको लाइन में लगने की जरूरत है और न ही वक्त की बर्बादी.

लाइन से बचेंगे, बेईमानी नहीं कर सकेंगे

UTS ऐप के जरिए यात्री रेलवे लाइन से कम से कम 20 मीटर दूर रहते हुए अनारक्षित टिकट बुक कर सकते हैं. हालांकि आप ट्रेन पर सवार होकर टिकट बुक नहीं कर पाएंगे. इसके लिए रेलवे ने जियो फेंसिंग की हुई है, ताकि लोग सुविधा का दुरुपयोग ना कर सकें. यानी अगर आपको भी UTS ऐप के जरिये टिकट लेनी है तो इसके लिए आपको रेलवे स्टेशन के कम से कम 20 मीटर के दायरे में आना होगा. रेलवे स्टेशन से 20 मीटर की दूरी पर आप अपने मोबाइल से जनरल और प्लेटफॉर्म टिकट आसानी से बना सकते हैं, और यात्रा कर सकते हैं.

‘इसे कैंसिल नहीं कर सकेंगे’

इस ऐप के बारे में अधिकतर लोगों को पता नहीं है, इसलिए वो भागते हुए रेलवे स्टेशन आते हैं और टिकट काउंटर पर लाइन में लग जाते हैं. रेलवे ने पेपरलेस प्लेटफॉर्म टिकट को रद्द करने की इजाजत नहीं दी है, ऐसे में इस कैंसिल नहीं किया जा सकता है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button