उत्तर प्रदेशमथुरा

मथुरा में संस्कृति विवि के मैदान में बच्चों ने कैनवास पर सजाया भविष्य का भारत,पेंटिंग प्रतियोगिता में 35 स्कूलों के 700 बच्चों ने लिया भाग

मथुरा।संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित ड्राइंग पेंटिंग कंपटीशन में भाग लेने आगरा,मथुरा, वृंदावन, कोसी, कोटवन, छाता, आझई सहित अनेक स्थानों से दर्जनों स्कूल के सैंकड़ों बच्चे पहुंचे।

मथुरा।संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित ड्राइंग पेंटिंग कंपटीशन में भाग लेने आगरा,मथुरा, वृंदावन, कोसी, कोटवन, छाता, आझई सहित अनेक स्थानों से दर्जनों स्कूल के सैंकड़ों बच्चे पहुंचे।विश्वविद्यालय का मुख्य मैदान में स्कूली बच्चों ने दिए गए विषयों पर अपनी सोच को जब कैनवास पर उकेरा तो देखने वाले हैरत में पड़ गए। बच्चों के चित्र बता रहे थे कि आने वाला समय इन बच्चों का है और ये देश को विश्व का सिरमौर बनाने के लिए कितने उतावले हैं।हरी-हरी घास पर बिछे कार्पेट और कुर्सी, मेजों पर अपने साथ लाए रंगों का संसार लिए बच्चे जमे थे। लगभग 35 स्कूलों के 700 बच्चे इस ड्राइंग एंड पेंटिंग प्रतियोगिता में भाग ले रहे थे। बता दें कि सुबह 10 बजे से शुरू हुई प्रतियोगिता दोपहर 12 बजे तक चली।छोटे बच्चों को 1.पर्यावरण बचाओ, 2. मेरा भविष्य क्या है, 3.धार्मिक आस्था पर चित्र बनाने को दिया गया था वहीं बड़े बच्चों को, 1.स्वच्छ भारत अभियान, 2-आजादी का अमृत महोत्सव पर चित्र बनाने को कहा गया। बच्चों के साथ विभिन्न स्कूलों से आए शिक्षक भी थे जो बच्चों की व्यवहारिक दिक्कतों को सुलझा रहे थे। उधर संस्कृति विवि के एडमीशन सेल के विजय सक्सैना के साथ उनकी टीम बच्चों के रजिस्ट्रेशन सहित प्रतियोगिता को निर्विघ्न सफल बनाने में अंत तक जुटी रही।ये सभी स्कूली विद्यार्थी बड़ी तल्लीनता के साथ अपने विषय अनुरूप कैनवास पर पेंसिल और रंगों की कूचियों से अपनी कल्पना को साकार कर रहे थे। दरअसल बच्चे पहले पेंसिल से अपनी कल्पनाओं का खाका तैयार कर रहे थे और फिर उसके बाद उनमें रंग भर रहे थे। चाहे छोटे बच्चे हों या फिर बड़े सबके सब पूरी तैयारी के साथ पहुंचे और चित्र बनाने को लेकर बहुत उत्साहित नजर आए। इतने सारे बच्चे विश्वविद्यालय के शिक्षकों और विद्यार्थियों के आकर्षण का केंद्र भी बने रहे। बच्चों का अनुशासित व्यवहार भी सबको प्रभावित कर रहा था। बच्चों ने विषयानुरूप अपनी कल्पनाओं को इतनी खूबसूरती से कागज पर उतारा था कि चयनकर्ताओं के समक्ष प्रथम, द्वितीय और तृतीय का चयन एक चुनौती बन गया। संस्कृति ड्राइंग पेंटिंग कंपटीशन के तुरंत बाद चयनकर्ताओं ने उत्कृष्ट चित्रों का चयन कर विजेताओं की घोषणा की।विजेताओं को संस्कृति विवि के एकाडमिक डीन डा. हरवीर सिंह ने मोमेंटो और प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया। सीनियर ग्रुप (नवीं से 12वीं कक्षा तक) के बच्चों की प्रतियोगिता में रतन लाल फूल कटोरी की 11वी कक्षा की छात्रा मानवी गुप्ता को प्रथम, माउंट जी लिट्रा मथुरा की छात्रा राधिका चौधरी को द्वितीय पुरस्कार प्रदान किया गया। वहीं जूनियर ग्रुप में (एक से नवीं कक्षा तक) माउंट जी लिट्रा मथुरा के छात्र आर्यन सिंह, राधास्वामी स्कूल छाता के छात्र प्रशांत कुशवाह को द्वितीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। सीनियर ग्रुप में रनर रहीं एमडी जैन पब्लिक स्कूल कोसीकलां की छात्रा संध्या सिंह को, द्वितीय रनर संदीपनी मुनी स्कूल वृंदावन की छात्रा चंचल राठौर को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। इसी प्रकार जूनियर ग्रुप में प्रथम रनर सेंट पाल स्कूल आगरा की छात्रा रिधिमा गुप्ता, द्वितीय रनर सरस्वती विद्यामंदिर वृंदावन की छात्रा हर्षिता शर्मा को सांत्वना पुरस्कार प्रदान किया गया। प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रत्येक विद्यार्थी को प्रमाणपत्र प्रदान किए गए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button