विदेश

‘पेगासस’ जासूसी का शिकार हुए पूर्व इजरायली पीएम नेतन्याहू के बेटे,भ्रष्टाचार के मुकदमें झेल रहे हैं नेतन्याहू

हाल के दिनों में, इजरायली मीडिया ने रिपोर्ट किया है कि नेतन्याहू के भ्रष्टाचार के मुकदमे में एक प्रमुख गवाह के खिलाफ स्पाइवेयर का इस्तेमाल किया गया था।

इजरायली पुलिस ने कथित तौर पर पूर्व प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के बेटे और उनके आंतरिक सर्कल के सदस्यों के फोन पर स्पाइवेयर का इस्तेमाल किया। एक इजरायली अखबार ने सोमवार को ये जानकारी दी। कैल्कालिस्ट (Calcalist) ने हालिया रिपोर्टों की एक सीरीज प्रकाशित की है जिसमें आरोप लगाया गया है कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों और अन्य इजरायली नागरिकों को निशाना बनाने के लिए स्पाइवेयर का इस्तेमाल किया है। पुलिस के इस कदम की निंदा की गई और राजनीतिक विभाग से जांच की मांग की गई।

भ्रष्टाचार के मुकदमें झेल रहे हैं नेतन्याहू 

हाल के दिनों में, इजरायली मीडिया ने रिपोर्ट किया है कि नेतन्याहू के भ्रष्टाचार के मुकदमे में एक प्रमुख गवाह के खिलाफ स्पाइवेयर का इस्तेमाल किया गया था। कैल्कालिस्ट का कहना है कि इसका इस्तेमाल उनके बेटे, अवनर, दो संचार सलाहकारों और मामले में एक अन्य प्रतिवादी की पत्नी के खिलाफ भी किया गया था। कैल्कालिस्ट ने बताया कि वे कई प्रमुख हस्तियों में से हैं, जिन्हें स्पाइवेयर के जरिए निशाना बनाया गया है। इसमें व्यापारिक नेता, कैबिनेट मंत्रालयों के पूर्व निदेशक, महापौर और विरोध आयोजक भी शामिल हैं। नेतन्याहू तीन अलग-अलग मामलों में धोखाधड़ी, विश्वास भंग करने और रिश्वत स्वीकार करने के आरोपों को लेकर एक लंबे भ्रष्टाचार के मुकदमे झेल रहे हैं।

जल्द ही गवाही दे सकता है गवाह

उनका ऐतिहासिक 12 साल का शासन पिछले जून में समाप्त हो गया जब दो साल से भी कम समय में चार कड़े चुनावों के बाद एक छोटे गठबंधन सरकार ने शपथ ली। नेतन्याहू ने लंबे समय से कानून प्रवर्तन पर उन्हें गलत तरीके से निशाना बनाने का आरोप लगाया है, और उनके वकीलों ने इसको लेकर सरकार से जवाब मांगा है। यहां तक कि नेतन्याहू के राजनीतिक विरोधियों ने भी इस पर नाराजगी जताई है। श्लोमो फिलबर नाम के जिस गवाह का फोन कथित तौर पर हैक किया गया था उसके आने वाले दिनों में गवाही देने की उम्मीद है। माना जा रहा है कि नेतन्याहू के वकील उसकी गवाही में देरी का अनुरोध कर सकते हैं।

क्या नेतन्याहू के खिलाफ इस्तेमाल किए गए सबूत?

यह स्पष्ट नहीं है कि कथित तौर पर एकत्र किए गए किसी भी सबूत का नेतन्याहू के खिलाफ इस्तेमाल किया गया था या नहीं। पुलिस ने इन ताजा रिपोर्ट पर टिप्पणी करने से इनकार किया है। द एसोसिएटेड प्रेस द्वारा देखी गई रिपोर्ट्स के अनुसार, राज्य के अभियोजकों ने नेतन्याहू के वकीलों से कहा है कि वे रिपोर्टों की “पूरी तरह से जांच” कर रहे हैं। अधिकारियों ने यह नहीं बताया है कि कौन सा स्पाइवेयर गलत तरीके से इस्तेमाल किया गया होगा।

क्या है पेगासस जासूसी?

Calcalist ने कहा है कि कम से कम कुछ मामलों में इजरायली हैकर-फॉर-हायर कंपनी NSO ग्रुप शामिल है। इसका प्रमुख प्रोडक्ट पेगासस (Pegasus) है। NSO Group का बनाया Pegasus जासूसी सॉफ्टवेयर किसी भी टारगेट के फोन में जाकर डेटा लेकर इसे सेंटर तक पहुंचाता है। ये सॉफ्टवेयर फोन की किसी भी बातचीत को रियल टाइम में ट्रांसफर कर सकता है। एनएसओ को पेगासस पर बढ़ती जांच का सामना करना पड़ा है, जिसे दुनिया भर में मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, पत्रकारों और राजनेताओं पर जासूसी करने से जोड़ा गया है। एनएसओ कंपनी अपने ग्राहकों का खुलासा नहीं करती है। उसका कहना है कि इसकी सभी बिक्री इजरायल के रक्षा मंत्रालय द्वारा अप्रूव है और इसकी तकनीक का इस्तेमाल सरकारों द्वारा अपराध और आतंकवाद से निपटने के लिए किया जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button