राजनीतिस्वास्थ्य

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सोनिया गांधी से हुई मुलाकात

गंभीर आरोपों के कागजात भी लेकर गए थे गहलोत

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सीएम अशोक गहलोत कल सोनिया गांधी से मिलने जाते वक्त अपने साथ सचिन पायलट के खिलाफ गंभीर आरोपों के कई कागजात लेकर पहुंचे थे। सोनिया गांधी के बंगले पर जाते वक्त गहलोत के हाथ जो कागज कैमरों में कैद हुआ, कागज में पायलट कैंप पर गुंडागर्दी करने, ‌BJP से मिलीभगत से लेकर पार्टी छोड़ने तक का जिक्र । गहलोत ने हाथ से लिखा हुआ कागज ले रखा था, जिसमें माफी के साथ सचिन पायलट के खिलाफ आरोपों के पॉइंट‌्स थे। कागज में लिखा था- सचिन पायलट पार्टी छोड़ देगा-ऑब्जवर्स। पार्टी के लिए अच्छा होता। 102 वर्सेज 18। इसका मतलब यह है कि उनके पास 102 विधायकों के समर्थन का दावा किया और पायलट के पास केवल 18 विधायक बताए।

कागज में सबसे टॉप पर लिखा हुआ था- जो हुआ बहुत दुखद है, मैं भी बहुत दुखी और आहत हूं। इसके बाद लिखा था- राजनीति में हवा बदलते देख साथ। RG (राहुल गांधी) 1 घंटे – SP/CP (PM) । इसके नीचे लिखा है 102 वर्सेज एसपी प्लस 18, इसका मतलब है कि गहलोत ने खुद के पास 102 विधायकों का समर्थन होने का दावा किया है, जबकि सचिन पायलट के पास केवल 18 विधायक बताए। पायलट खेमे पर गुंडागर्दी करने के आरोप, पुष्कर की घटना का भी जिक्र कागज में पायलट खेमे के खिलाफ सिलसिलेवार आरोपों के पॉइंट‌स लिखे हुए थे। हालांकि इन पॉइंट्स का ज्यादातर का आधा हिस्सा ही कैमरे में आया है और बाकी का हिस्सा गहलोत के हाथ से ढंक गया। उन पॉइंट‌स को डिकोड करके यहां दिया जा रहा है। गहलोत ने लिखा था- पहला प्रदेशाध्यक्ष, जिसने पद पर रहते बगावत की। हमारे पास 102 विधायक हैं, जबकि पायलट के पास केवल 18। BJP ने विधायकों को 10 से 50 करोड़ ऑफर किए। गुंडागर्दी की। विधायकों में भय का माहौल बनाया गया। आरोपों में पुष्कर की घटना और शकुंतला रावत का भी जिक्र है। आगे डोटासराजी ने बताया और मानेसर लिखा हुआ है।

पुष्कर में पिछले दिनों कर्नल किरोड़ी सिहं बैसला के श्रद्धांजलि कार्यक्रम में मंत्री अशोक चांदना के भाषण के दौरान पायलट समर्थकों ने जूते उछाले थे और मंत्री शकुंतला रावत की हूटिंग की थी। इस पर अशोक चांदना ने पायलट के खिलाफ ट्वीट कर सीधे धमकी दी थी। अध्यक्ष के चुनाव से राजस्थान विवाद के हल का कनेक्शन कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव से राजस्थान कांग्रेस के विवाद के हल का कनेक्शन जुड़ा है। नॉमिनेशन के बाद अब कल से राजस्थान विवाद को हल करने के लिए नए सिरे से एक्सरसाइज शुरू होने की संभावना है। जयपुर में नए सिरे से कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाने का वक्त तय हो सकता है। AICC की तरफ से पर्यवेक्षक भी नए सिरे से तय होंगे। अशोक गहलोत के कल के माफीनामे और उनके बयानों से साफ था कि विधायक दल की बैठक फिर से होगी और उसमें एक लाइन का प्रस्ताव पास होगा। केसी वेणुगोपाल ने भी कहा था कि राजस्थान पर एक दो दिन में फैसला हो जाएगा। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button