लाइफस्टाइल

जरूरत से ज्यादा कीवी खाने के नुकसान, आइए जानते हैं कैसे।  

 डेंगू होने पर प्लेटलेट्स (platelets) काउंट बढ़ाने हों या फिर वायरल इंफेक्शन से रहना हो दूर, कीवी हर मर्ज का इलाज है।

 डेंगू होने पर प्लेटलेट्स (platelets) काउंट बढ़ाने हों या फिर वायरल इंफेक्शन से रहना हो दूर, कीवी हर मर्ज का इलाज है।

कीवी में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट्स के साथ-साथ विटामिन बी6, विटामिन सी, फाइबर, कैल्शियम, पोटैशियम, कार्बोहाइड्रेट्स, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, कॉपर, जिंक, नियासिन, राइबोफ्लेविन, बीटा कैरोटीन आदि पोषक तत्व मौजदू होते हैं।

जो व्यक्ति को कई रोगों से दूर रखने में मदद करते हैं। स्वाद में खट्टा लगने वाले यह फल कीवी सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है। बावजूद इसके अगर इसका सेवन जरूरत से ज्यादा किया जाता है तो ये सेहत को फायदे की जगह नुकसान भी पहुंचा सकता है। आइए जानते हैं कैसे।  

जरूरत से ज्यादा कीवी खाने के नुकसान- -जरूरत से ज्यादा कीवी का सेवन करने से व्यक्ति को कई तरह की स्किन रैशेज, स्वेलिंग या सूजन, रैशेज, अस्थमा, हाइव्स (स्किन रैश), मुंह में इर्रिटेशन आदि जैसी एलर्जी की समस्या हो सकती है। -कई लोगों में कीवी का अधिक सेवन करने से ओरल एलर्जी सिंड्रोम होने का भी खतरा बना रहता है। इसमें मुंह, होंठ और जीभ में सूजन हो जाती है। -जिन लोगों को किडनी की समस्या है, उन्हें कीवी फल से परहेज करना चाहिए। दरअसल, कीवी में पोटैशियम मौजूद होता है,जो किडनी की बीमारी में नुकसान पहुंचाता है। किडनी के मरीजों को खाने में पोटैशियम की कम से कम मात्रा का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। -बहुत अधिक कीवी खाने से एक्यूट पेनक्रिएटाइटिस की परेशानी भी हो सकती है। इस समस्या में पैंक्रियास में सूजन आ सकती है और व्यक्ति को पेट में दर्द भी हो सकता है। -कीवी में मौजूद फाइबर की अधिकता डायरिया, पेट दर्द, मतली, उल्टी जैसी समस्याएं पैदा कर सकती हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button