उत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़सम्भल

संभल में चिता जलाने को लेकर दो पक्षों में विवाद, लगाया जाम

संभल में चिता जलाने के स्थान को लेकर दो पक्षों में विवाद हुआ है। श्मशान घाट में गड्ढा होने के कारण पानी भरे होने के कारण दूसरे खेत में चिता जलाने को लेकर दो पक्षों में विवाद हुआ है।

संभल में चिता जलाने के स्थान को लेकर दो पक्षों में विवाद हुआ है। श्मशान घाट में गड्ढा होने के कारण पानी भरे होने के कारण दूसरे खेत में चिता जलाने को लेकर दो पक्षों में विवाद हुआ है। विवाद होने पर चिता रखकर सड़क पर एक समाज द्वारा जाम लगाया गया जिसकी सूचना पाकर तहसीलदार व दो थानों की पुलिस ने मौके पर पहुंच कर जाम खुलवाया है। अभी दोनों पक्षों में वार्ता जारी है।

पूरा मामला जनपद सम्भल के थाना बहजोई के ग्राम पवासा का है। जहां बाल्मीकि समाज में किसी की मृत्यु हो गई। मृत्यु होने पर वाल्मीकि समाज के लोग मृतक शरीर के शव को लेकर श्मशान घाट अंतिम संस्कार करने के लिए पहुंचे। श्मशान घाट के गड्ढे में पानी भरा होने के कारण वह शव को अलग खेत में रखकर चिता जलाने की कोशिश करने लगे। ठाकुर समाज का खेत होने के कारण ठाकुर समाज के लोग भी मौके पर पहुंच गये। दोनों पक्षों में कहासुनी होने के बाद ठाकुर पक्ष ने चिता को अपने खेत में जलाने नहीं दिया। जिससे उग्र होकर बाल्मीकि समाज चिता को लेकर रोड पर गये। रोड पर चिता रखकर जाम लगा दिया। जिसकी सूचना किसी ने पुलिस को दे दी। मौके पर तहसीलदार मनोज कुमार व दो थानों की पुलिस ने पहुंचकर तत्परता दिखाते हुए लोगों को समझा-बुझाकर जाम खुलवाया। तहसीलदार मनोज कुमार ने दोनों पक्षों को समझाने के सब का अंतिम संस्कार करवाया।

पुलिस द्वारा मौके पर शांति व्यवस्था बनी हुई है। अपर पुलिस अधीक्षक श्रीशचंद ने बताया कि थाना बहजोई के ग्राम पवासा में कुछ लोगों द्वारा शव का अंतिम संस्कार एक स्थान पर करने का प्रयत्न किया गया था। इस दौरान कुछ लोगों ने विरोध किया तो पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लोगों को समझा-बुझाकर अंतिम संस्कार करा दिया है। कुछ लोगों द्वारा जाम भी लगाया गया था मगर पुलिस द्वारा समझा-बुझाकर जाम खुलवाया गया था। इस प्रकरण की जांच की जा रही है किन स्थितियों में कृत्य कार्य हुआ है। जांच के बाद अग्रिम कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।

रिपोर्टर – उवैस दानिश

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button