देशब्रेकिंग न्यूज़

हमीरपुर में घुमन्तु जनजाति के दर्जनों लोगों ने प्रशासन से की मूलभूत सुविधाओं की मांग

लोहार समाज के दर्जनों लोगों ने उप जिला अधिकारी की चौखट में पहुंचकर मूलभूत सुविधाएं की मांग की

हमीरपुर में खुले आसमान के नीचे सर्दी गर्मी व बरसात का मौसम झेल कर जीवन यापन करने वाले मजबूर पछैंया लोहार समाज के दर्जनों लोगों ने उप जिला अधिकारी की चौखट में पहुंचकर ज्ञापन सौंपते हुए मूलभूत सुविधाएं रोटी कपड़ा और मकान की मांग की है।

आपको बता दें कि अपने आपको महाराणा प्रताप के वंशज कहने वाले पछैंया लोहार समाज के दर्जनों महिलाओं पुरुष सहित बच्चों ने मौदहा उप जिला अधिकारी सुरेंद्र कुमार सिंह को ज्ञापन सौंपते हुए बताया है कि वह महाराणा प्रताप के शासनकाल से अब तक सड़कों पर अपना जीवन यापन कर रहे हैं जिसके लिए कई बार प्रशासन से अपने अधिकारों की मांग भी कर चुके हैं ।मगर आज तक उनको घर मुहैया नही हो सका है और वह सड़कों के किनारे अपने आशियाने डालकर जीवन यापन करने को मजबूर हैं। इनकी मार्मिक स्थिति से सभी लोग भलीभांति परिचित हैं। जो लगभग 40 से 50 वर्षों से एक ही स्थान पर झोपड़ी डालकर निवास करते चले आ रहे हैं जिनका मुख्य व्यवसाय लोहे के घरेलू उपकरण हंसिया खुरपी छैनी फावड़ा आदि सामान बनाकर व पीटकर जीवन यापन कर रहे हैं जिन्हें सरकार द्वारा चलाई जा रही आवास योजना का लाभ नही मिल रहा है और आज भी खुले आसमान के नीचे सर्दी गर्मी व बरसात के मौसम को झेल कर अपना जीवन गुजारने पर मजबूर हैं। दर्जनों लोगों ने उपजिलाधिकारी से आवासीय पट्टा व आवास की मांग की है ताकि व अपने बच्चों को शिक्षा दिला कर उनका अंधकारमय भविष्य को सुधार सकें। उनकी इस मांग के बाद उप जिलाधिकारी ने राजस्व निरीक्षक से जांच करा कर बचत की भूमि देख कर पट्टे देने का आश्वासन दिया है।अब देखना यह होगा कि आखिर उन्हें घर की छत कब नसीब होगी।

बाइट- नीलम लोहार जनजाति

बाइट – संजय(पुरूष) घुमन्तु जनजाति।

रिपोर्ट- आदित्य त्रिपाठी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button