विदेश

चांद पर एक बड़ी घटना , सैकड़ों किलोमीटर तक उड़ेगी धूल

चांद पर एक बड़ी घटना शुक्रवार को घटित हो सकती है। दरअसल अंतरिक्ष में घूम रहा करीब 3 टन कचरा चांद की सतह पर गिर सकता है।

चांद पर एक बड़ी घटना शुक्रवार को घटित हो सकती है। दरअसल अंतरिक्ष में घूम रहा करीब 3 टन कचरा चांद की सतह पर गिर सकता है। यह कचरा पृथ्वी से छोड़े गए रॉकेट का है। चांद पर ऐसी घटना पहली बार हो रही है। यह कचरा करीब 9,300 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चांद से टकराएगा। इससे चांद की सतह पर 33 फीट से 66 फीट तक गहरा गड्‌ढा हो सकता है। आकार में यह इतना बड़ा होगा जिसमें ट्रक जैसे बड़े कई वाहन समा जाएंगे। टक्कर के चलते चांद की धूल उड़ेगी जो सैकड़ों किलोमीटर तक फैलेगी।

चांद पर जहां यह घटना होने के आसार हैं, वह ऐसी जगह है जहां तक धरती के दूरबीन नहीं देख पाते। ऐसे में सेटेलाइट तस्वीरों की मदद से टक्कर की पुष्टि करने में लंबा वक्त लग सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि यह रॉकेट चीन का है, जिसे करीब एक दशक पहले लॉन्च किया गया था। यह तबसे अंतरिक्ष में भटक रहा है। लेकिन चीन के अधिकारियों ने कहा कि यह रॉकेट हमारा नहीं है।

दूसरी ओर, वैज्ञानिकों का मानना है कि पृथ्वी के पास ही अंतरिक्ष में तैर रहे कचरे पर नजर रखना तुलनात्मक रूप से आसान होता है। गहरे अंतरिक्ष में भेजी जाने वाली चीजों के किसी दूसरी चीज से टकराने की संभावना कम होती है। शौकिया तौर पर खगोलीय जासूस की भूमिका निभा रहे कुछ अंतरिक्ष पर्यवेक्षक उन पर नजर रखते हैं। ऐसे ही पर्यवेक्षक बिल ग्रे ने जनवरी में इस रॉकेट के चांद से टकराने के मार्ग का पता लगाया था।

2500 किमी तक के कई क्रेटर, 58 मिशन के रॉकेट गिरे चांद पर पहले से अनगिनत क्रेटर हैं, जिनकी लंबाई 2,500 किमी तक है। चांद पर कोई वास्तविक वातावरण नहीं है। इस कारण उल्का पिंडों और क्षुद्रग्रहों के टकराने की आशंका बनी रहती है। वातावरण और क्षरण न होने से क्रेटर बने रहते हैं। वैसे अब तक चंद्रमा के रहस्यों से पर्दा उठाने के लिए लॉन्च किए गए 58 मिशन राॅकेट भी नष्ट होकर चांद पर गिर चुके हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button