विदेश

श्रीलंका में छाए आर्थिक संकट का कहर

श्रीलंका में छाए आर्थिक संकट का असर देश की स्वास्थ्य प्रणाली पर भी दिख रहा है। अस्पलातों में दवाओं की भारी कमी देखी जा रही है

श्रीलंका में छाए आर्थिक संकट का असर देश की स्वास्थ्य प्रणाली पर भी दिख रहा है। अस्पलातों में दवाओं की भारी कमी देखी जा रही है। मंगलवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर ने श्रीलंका में भारतीय उच्चायुक्त से उस अस्पताल की मदद करने को कहा, जिसने दवाओं की कमी के कारण सर्जरी रोक दी थी। 

जयशंकर ने कहा कि वह द्वीप राष्ट्र में बड़े पैमाने पर आर्थिक संकट के बीच एक श्रीलंकाई पत्रकार के ट्वीट को पढ़कर “परेशान” हुए। पत्रकार अयूबोवन ने हैशटैग #EconomicCrisisLK के साथ ट्वीट करते हुए लिखा, “पेराडेनिया अस्पताल में निर्धारित सर्जरी दवाओं की कमी के कारण निलंबित कर दीं गईं। केवल आपातकालीन सर्जरी हो रही हैं।”

इसके बाद भारतीय विदेश मंत्री ने हैशटैग #NeighbourhoodFirst के साथ जवाब दिया। जयशंकर ने लिखा, “इस खबर को देखकर परेशान हूं। मैं उच्चायुक्त बागले से संपर्क करने और चर्चा करने के लिए कह रहा हूं कि भारत कैसे मदद कर सकता है।”

बता दें कि भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर श्रीलंका के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। उन्होंने भारतीय उच्चायुक्त गोपाल बागले को पेराडेनिया अस्पताल की मदद करने का निर्देश दिया।

विदेश मंत्री बिम्सटेक (बहु-क्षेत्रीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग के लिए बंगाल की खाड़ी पहल) समूह की बैठक में भाग लेने के लिए कोलंबो पहुंचे हुए हैं। इसके सात सदस्यों में से पांच एशिया से हैं।

श्रीलंका हिंद महासागर क्षेत्र में भारत का प्रमुख समुद्री पड़ोसी है और प्रधानमंत्री के ‘सागर’ और “पड़ोसी पहले” के दृष्टिकोण में एक विशेष स्थान रखता है। श्रीलंका एक आर्थिक संकट का सामना कर रहा है क्योंकि जनवरी 2020 से विदेशी मुद्रा भंडार में 70% की गिरावट के बाद खाद्य और ईंधन के आवश्यक आयात के लिए भुगतान करने के लिए संघर्ष कर रहा है, जिससे मुद्रा अवमूल्यन हुआ और वैश्विक उधारदाताओं से मदद लेने के प्रयास किए गए।

भारत ने हाल ही में घोषणा की कि वह श्रीलंका को अपनी वित्तीय सहायता के हिस्से के रूप में 1 बिलियन डॉलर की ऋण सहायता प्रदान करेगा। नई दिल्ली ने फरवरी में कोलंबो को पेट्रोलियम उत्पादों की खरीद में मदद करने के लिए 50 करोड़ डॉलर का ऋण दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button