राजनीति

15 जनवरी के बाद भी चुनावी रैलियों पर जारी रह सकती है रोक, चुनाव आयोग जल्द कर सकता है ऐलान

चुनाव आयोग से जुड़े सूत्रों के मुताबिक 15 जनवरी के बाद भी चुनावी रैलियों, रोड शो, पद यात्रा, साइकिल रैली और अन्य तरह की तमाम चुनावी रैलियों पर रोक जारी रहेगी.

Elections 2022 UP Punjab other states political rallies ban continue after 15 jan EC can announce COVID 19 situation ANN

चुनाव आयोग ने 15 जनवरी तक लगाई थी चुनावी रैलियों पर रोक

देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. जिसे देखते हुए चुनाव आयोग ने चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही 15 जनवरी तक तमाम तरह की रैलियों और रोड शो पर रोक लगाई थी. लेकिन अब कोरोना के हालात बिगड़ते देख चुनाव आयोग इस रोक को आगे भी जारी रख सकता है. बताया जा रहा है कि इसे लेकर आज शाम तक आदेश जारी हो सकता है. चुनाव आयोग से जुड़े सूत्रों के मुताबिक 15 जनवरी के बाद भी चुनावी रैलियों, रोड शो, पद यात्रा, साइकिल रैली और अन्य तरह की तमाम चुनावी रैलियों पर रोक जारी रहेगी. हालांकि ये साफ नहीं है कि कब तक चुनाव आयोग इस पाबंदी को रखता है. हो सकता है कि पिछली बार की तरह इस बार भी समीक्षा की अगली तारीख बताई जाए. चुनाव आयोग ने फैसले की समीक्षा करने की कही थी बात इससे पहले चुनावों की तारीखों का ऐलान करते हुए केंद्रीय चुनाव आयोग ने 15 जनवरी  तक ऐसी सभी रैलियों और जनसभाओं पर रोक लगाई थी. चुनाव आयोग की तरफ से तब कहा गया था कि 15 जनवरी से ठीक पहले कोरोना के हालात की समीक्षा की जाएगी, अगर हालात सुधरते हैं तो उसके मुताबिक फैसला लिया जाएगा. अब आयोग की तरफ से इसे लेकर आदेश जारी किया जा सकता है. बता दें कि चुनाव आयोग की तरफ से पार्टियों और नेताओं को निर्देश दिया गया है कि वो डूर टू डोर कैंपेनिंग कर सकते हैं. साथ ही वर्चुअल तरीके से जनता तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं. कई पार्टियों ने ये कैंपेनिंग शुरू भी कर दी है. लेकिन यूपी जैसे राज्य में बिना रैलियों के चुनााव प्रचार कैसे किया जाए बड़े दल अब भी इसे लेकर चिंतित नजर आ रहे हैं. कोरोना मामलों में तेजी से उछाल  कोरोना के हालात की अगर बात करें तो भारत में रोजाना आने वाले मामलों की संख्या अब दो लाख के पार चली गई है. इसके साथ ही करीब 13 लाख एक्टिव केस देशभर में हो चुके हैं. महाराष्ट्र, दिल्ली, कर्नाटक और केरल जैसे राज्यों में केस तेजी से बढ़ते नजर आ रहे हैं. जिसे देखते हुए तमाम तरह की पाबंदियां लगाई जा रही हैं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button