ब्रेकिंग न्यूज़स्वास्थ्य

आंखों से लेकर दिमाग और नींद की समस्याएं बढ़ा रही है आपकी यह आदत

आधुनिकता की इस दुनिया में हम तकनीक पर पूरी तरह से आश्रित होते जा रहे हैं

 इसी क्रम में मोबाइल फोन और कंप्यूटर हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा बन गए हैं। मोबाइल फोन ने जहां हमारे जीवन को काफी सरल और आसान बना दिया है, बैंक के काम से लेकर मेल और लोगों से सोशली जुड़े रहने तक, मोबाइल फोन हर स्तर पर हमारे लिए काफी आवश्यक हथियार हो गया है। वहीं इसके अधिक इस्तेमाल को स्वास्थ्य विशेषज्ञ कई मामलों में सेहत के लिए काफी नुकसानदायक और चुनौतीपूर्ण बताते हैं। विशेषकर बच्चों में मोबाइल के बढ़ते उपयोग और बढ़ते स्क्रीन टाइम को विशेषज्ञ काफी नुकसानदायक मानते हैं।

विशेषज्ञों का कहना है कि मोबाइल का अधिक इस्तेमाल, हमारे दैनिक स्क्रीन टाइम को बढ़ा देता है। स्क्रीन टाइम का बढ़ना हमारे मानसिक और शारीरिक दोनों ही तरह की सेहत को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है। सेल फोन या स्मार्टफोन के अत्याधिक उपयोग के परिणामस्वरूप कई अलग-अलग शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं, कुछ स्थितियों में यह स्थायी क्षति का कारण भी बन सकती हैं। आइए जानते हैं कि मोबाइल का अधिक इस्तेमाल किस तरह से हमारी सेहत को हानि पहुंचाता है? इसके इस्तेमाल को लेकर किन बातों का विशेष ध्यान रखना आवश्यक हो जाता है?

व्यवहार संबंधी विकारों की बढ़ती समस्या विशेषज्ञों का कहना है कि सेल फोन के अधिक इस्तेमाल की आदत, दिमाग और व्यवहार पर उसी तरह से नकारात्मक असर डालती है, जैसे जुआ खेलने का होता है। जो लोग अधिक समय तक मोबाइल का इस्तेमाल करते रहते हैं, उनमें व्यवहार पर नियंत्रण करने में कठिनाइयों का अनुभव काफी सामान्य देखा गया है। यह नकारात्मक सोच को भी बढ़ावा देने वाला कारक है। फोन के अधिक इस्तेमाल की आदत चिड़चिड़ापन और चिंता विकार को भी बढ़ा सकती है, जिसको लेकर विशेष अलर्ट रहने की आवश्यकता है। 

मोटापे और मधुमेह की समस्या फ़ोन पर अधिक समय बिताना आपमें मोटापे के जोखिम को बढ़ा देता है। फोन के स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी आपकी नींद को प्रभावित कर देती है, जिसके कारण वजन बढ़ना स्वाभाविक है। स्पेन स्थित ग्रेनाडा विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने बताया कि यह आदत आपके स्लीप साइकल को प्रभावित कर देती है जिससे कई प्रकार के हार्मोन्स का उत्पादन और उनका सामान्य कार्य प्रभावित हो सकता है। 

आंखों की समस्या फोन के अधिक इस्तेमाल की आदत का सबसे ज्यादा असर आपकी आंखों पर पड़ता है। यह आदत आपमें अस्थायी रूप से अंधेपन का भी कारण बन सकती है। फोन से निकलने वाली नीली रोशनी सीधे आंखों पर असर डालती है जिसके कारण ड्राई आइज या आंखों में जलन-चुभन की समस्या बढ़ सकती है। विशेषकर बच्चों में चश्मा लगने के लिए इसे एक प्रमुख कारण के तौर पर देखा जाता है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button