बिज़नेस

केंद्रीय कर्मचारियों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी! महंगाई भत्‍ते में हुई 14% की बढ़ोतरी

: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है. कर्मचारियों के डीए (DA) में 14 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है जिससे उनके बीच बंपर उत्साह है. कर्मचारियों के डीए बढ़ोतरी के बाद अब उनकी सैलरी में बंपर बढ़ोतरी हुई है.

 7th Pay Commission Latest News: केंद्रीय कर्मचारियों (Central Government Employees) के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी आई है. सरकार ने कर्मचारियों के नए महंगाई भत्‍ते (Dearness Allowance, DA) का ऐलान किया है. नए ऐलान के बाद, कर्मचारियों के डीए (DA Hike) में 14 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है जिससे उनके बीच बंपर उत्साह है. कर्मचारियों के डीए बढ़ोतरी (DA Hike Update) के बाद अब उनकी सैलरी में बंपर बढ़ोतरी हुई है. लेकिन आपको बता दें कि ये ऐलान सिर्फ केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उद्यम (CPSEs) के कर्मचारियों के लिए किया गया है. इन कर्मचारियों के डीए में जनवरी के अंत में संशोधन किया गया है.

कितना हुआ महंगाई भत्ता (DA)

अंडर सेक्रेटरी सैमुअल हक ने बताया, ‘CPSEs के बोर्ड स्तर और बोर्ड स्तर से नीचे के अधिकारियों और पर्यवेक्षकों को मिलने वाले DA की दरों को संशोधित किया गया है. 2007 वेतनमान के तहत CPSEs के अधिकारियों और गैर-संघीय पर्यवेक्षकों को DA की दर अब 184.1% की गई है. अभी तक उन्हें 170.5% DA मिल रहा था. जुलाई 2021 में सरकार ने महंगाई भत्‍ते में बढ़ोतरी का ऐलान किया. इसके बाद 7वें वेतन आयोग के तहत केंद्रीय कर्मचारियों के DA में सीधे 11 फीसदी का उछाल आया था. वहीं, CPSEs में 2007 वेतनमान वालों का DA भी बढ़ाया गया था.’

पिछली ब भी हुई थी बंपर बढ़ोतरी 

गौरतलब है कि CPSEs के कर्मचारियों के डीए में पिछले साल भी बढ़िया इजाफा हुआ था. पिछले महंगाई भत्ता पर नजर डालें तो जुलाई 2021 में उनका महंगाई भत्‍ता सीधे 159.9% से बढ़कर 170.5% पहुंच गया था. यानी डीए में लगभग करीब 11 फीसदी का इजाफा किया गया था. ध्यान दें कि DA की यह नई दर Industrial Dearness Allowance कर्मचारियों के मामले में लागू होगी. सरकारी कर्मचारियों को वेतन के आधार पर उनका DA तय किया जाता है. इतना ही नहीं, शहरी, अर्ध शहरी और ग्रामीण इलाकों में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते की दर अलग-अलग होती है.  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button