उत्तर प्रदेश

ज्ञानवापी विवाद मामले में बम से उड़ाने की धमकी !

वाराणसी के सब्जी विक्रेता की बेटी के नाम रजिस्टर्ड है फोन !

लखनऊ – ज्ञानवापी मस्जिद विवाद की सुनवायी कर रही अदालत को बम से उड़ाने से धमकी का मामला सामने आया है ।दरअसल टेलीफोन से ये धमकी कहीं और नहीं बल्कि सूबे के मुख्यमंत्री आवास को काल कर दी गयी है ।गुरूवार को आये इस धमकी भरे काल की जानकारी आज सामने आयी है ।गुरूवार की रात को 5 कालीदास मार्ग पर आये फोन को मुख्यमंत्री आवास पर तैनात एक ड्यूती स्टाफ ने रिसीव किया।धमकी भरे इस फोने को सुनकर ड्यूटी स्टाफ ने कई बार ये जानने की कोशिश की फोन पर कौन है और कहां से बोल रहा है।ड्यूटी स्टाफ की इस सवाल की अनदेखी कर काल करने वाला लगातार इस बात की ताकीद करता रहा कि वाराणसी कोर्ट में बम धमाका किया जायेगा।!!!

जैसे हीं फोन कट हुआ ड्यूटी स्टाफ ने तुरंत अपने उच्च अधिकारियों को इस फोन काल की जानकारी दी।उच्च अधिकारी ने ये जानकारी तुरंत साइबर टीम को देकर उसे ऐक्टिव किया,साथ हीं वाराणसी पुलिस को इस फोन के मद्देनजर हाई अलर्ट पर रहने का निर्देश जारी किया गया है।पुलिस ने वाराणसी की अदालत की सुरक्षा तत्काल बढ़ा दी है और हर तरह की निगरानी बरती जा रही है।दरअसल इसी अदालत में 8 अक्टूबर को अहम फैसला ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर आने वाला है।उसके पहले आयी इस तरह की धमकी पर लखनऊ से लेकर वाराणसी तक पूरी व्यवस्था हलकान है। 

तहकीकात में ये पता चला है कि जिस नंबर से फोन किया गया था वो वाराणसी के सब्जी विक्रेता की बेटी के नाम रजिस्टर्ड है।वाराणसी पुलिस मुस्तैदी से पड़ताल करने जब सब्जी विक्रेता के पास तक पहुंची तो पता चला कि जिस मोबाईल से मुख्यमंत्री आवास को धमकी भरा फोन किया गया था वो कुछ दिन पहले चोरी हो गयी थी।सब्जी विक्रेता ने इस तरह के किसी फोन होने की जानकारी से साफ इंकार कर दिया।अब पुलिस इस माथा पच्ची में उलझी है कि आखिर वो कौन है जिसने वाराणसी अदालत को बम से उड़ाने की धमकी दी है,पुलिस इस मामले की भी पड़ताल कर रही है कि कहीं पीएफआई या दूसरे इसी तरह के संगठन की ओर से तो धमकी नहीं दी गयी है ।माना ये जा रहा है कि इस मामले को जल्दी हीं सुलझा लिया जायेगा ।मामला सीधा मुख्यमंत्री निवास पर आये फोन से जुड़ा है लिहाजा गृहविभाग से लेकर मुख्यमंत्री सुरक्षा से जुड़ी सुरक्षा एजेंसी लगातार मामले के तह तक जाने में लगे हैं। फिलहाल फोन करने वाले तक अभी तक जांच एजेंसी नहीं पहुंच पायी है ।  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button