देश

मुस्लिम ब्रदरहुड कश्मीर में हो रहा एक्टिव फैला रहा दुष्प्रचार

अब कश्मीर में धीरे-धीरे मुस्लिम ब्रदरहुड एक्टिव हो गया है. आशंका है यह नेटवर्क दुनिया में दुष्प्रचार फैलाने का काम शुरू कर चुका है. इसका बहुत बड़ा नेटवर्क है. इसके ऐसे सदस्य भी हैं, जो भारत के लिए गलत मंशा रख चुके हैं.

कश्मीर में दम तोड़ते आतंकवाद को नया जीवन देने के लिए अब मुस्लिम ब्रदरहुड का अंंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क सक्रिय हो रहा है. केवल दो महीने के अंदर इस नेटवर्क ने कश्मीर में हो रहे तथाकथित नरसंहार पर एक अंतर्राष्ट्रीय ट्रिब्यूनल की मीटिंग आयोजित की. सेनाध्यक्ष जनरल एमएम नरवणे के खिलाफ कश्मीर में युद्ध अपराध का मुकदमा दायर किया और सेमीनार में अपने चुने हुए विशेषज्ञों के जरिए कश्मीर में मुसलमानों के काल्पनिक नरसंहार को साबित करने की कोशिश की.

फिलिस्तीन के बाद अब कश्मीर

इस नेटवर्क ने दशकों तक फिलिस्तीन में मुसलमानों के तथाकथित नरसंहार के प्रचार के बाद अब कश्मीर की वैसी ही तस्वीर दिखाने के लिए पूरी ताकत से अंतर्राष्ट्रीय मुहिम छेड़ दी है. एक कानूनी फर्म स्टोक व्हाइट ने 19 जनवरी को कश्मीर में सुरक्षा बलों के अत्याचारों पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की और अपनी ही रिपोर्ट के आधार पर यूके में भारतीय सेनाध्यक्ष और गृहमंत्री के खिलाफ युद्ध अपराधों का मुकदमा दायर कर दिया. व्हाइट स्टोक के डायरेक्टर हाकान कामुज तुर्की मूल के ब्रिटिश नागरिक हैं और उनके एर्दोगान परिवार के साथ पुराने और गहरे रिश्ते हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button