विदेश

चीन में तिब्बत एक महत्वपूर्ण पारिस्थितिक सुरक्षा बाधा है। इधर के सालों में तिब्बत स्वायत्त प्रदेश पारिस्थितिक पर्यावरण की रक्षा पर अधिक ध्यान दे रहा है,

चीन में तिब्बत एक महत्वपूर्ण पारिस्थितिक सुरक्षा बाधा है। इधर के सालों में तिब्बत स्वायत्त प्रदेश पारिस्थितिक पर्यावरण की रक्षा पर अधिक ध्यान दे रहा है

चीन में तिब्बत एक महत्वपूर्ण पारिस्थितिक सुरक्षा बाधा है। इधर के सालों में तिब्बत स्वायत्त प्रदेश पारिस्थितिक पर्यावरण की रक्षा पर अधिक ध्यान दे रहा है, स्वच्छ जल और हरे-भरे पहाड़ों की रक्षा के लिए व्यापक उपाय कर रहा है, जिससे तिब्बत के पारिस्थितिक वातावरण को लगातार बेहतर बने रहने को प्रभावी रूप से सुनिश्चित किया गया है। तिब्बत में आद्र्रभूमि का जोरदार और प्रभावी ढंग से संरक्षण किया जाता है। छ्यांगथांग घास के मैदान में स्थित थ्सो झील के द्वीपों में कई हजार किस्मों के पक्षी रहते हैं। उड़ते हुए उनकी खुशी से भरी आवाज अंतहीन होती है। छ्यांगथांग घास का मैदान तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के नाछ्यु प्रिफेक्च र में स्थित है। नाछ्यु शहर के वन और चरागाह ब्यूरो के संबंधित विभाग के प्रमुख के मुताबिक, नाछ्यु शहर ने एक समय में 8,894 आद्र्रभूमि पारिस्थितिक संरक्षकों और पर्यवेक्षकों को नियुक्त किया। आद्र्रभूमि संरक्षण और बहाली परियोजनाओं को लागू किया। इसके साथ ही, आद्र्रभूमि और जंगली जानवर संसाधनों को नुकसान पहुंचाने वाले सभी प्रकार के अवैध और आपराधिक कृत्यों पर सख्ती से कार्रवाई की। कई वर्षों के अथक प्रयासों के बाद तिब्बत ने प्रारंभिक तौर पर विविध आद्र्रभूमि संरक्षण प्रणाली स्थापित की, और आद्र्रभूमि संरक्षण फास्ट लेन में प्रवेश कर गया है। इसके अलावा, तिब्बत में वायु की गुणवत्ता भी स्थिर रूप से उन्नत हो रही है। साल 2020 में पूरे स्वायत्त प्रदेश में वायु गुणवत्ता उत्कृष्ट बनी रही, और अच्छी वायु गुणवत्ता वाले दिनों की औसत संख्या 99.4 प्रतिशत थी, जिसमें इसके दो वर्षों पहले की तुलना में लगातार वृद्धि हुई। वर्तमान में तिब्बत के गांवों में लोगों की पारिस्थितिकी पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ गयी है। उन्होंने कहा कि अब उनका जीवन अच्छा हो गया है और वे गांवों के विकास के लिए कुछ काम करना चाहते हैं। छ्यांगथांग घास के मैदान में स्थित न्येरोंग काउंटी के थोंगलोंग गांव में लोग अपने निवास स्थान को खूबसूरत बनाने के लिए प्रयास कर रहे हैं। गांववासियों ने दर्जनों स्वयं सेवा की और अपने गृह-स्थल को सुन्दर बनाने की गतिविधि में सक्रियता से भाग लिया। (साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button