विदेश

PAK प्रधानमंत्री बोले- उम्मीद है भविष्य में इस पर बातचीत होगी और मसला हल हो जाएगा।

पाकिस्तान में एकजुट विपक्ष इमरान खान सरकार के खिलाफ बहुत जल्द अविश्वास प्रस्ताव लाने जा रहा है। माना जा रहा कि इस महीने या अगले महीने इमरान सरकार की ‘घर वापसी’तय है

पाकिस्तान में एकजुट विपक्ष इमरान खान सरकार के खिलाफ बहुत जल्द अविश्वास प्रस्ताव लाने जा रहा है। माना जा रहा कि इस महीने या अगले महीने इमरान सरकार की ‘घर वापसी’तय है। बहरहाल, शायद सियासी खतरे से बेखबर इमरान अमेरिका और चीन के बीच मध्यस्थता कराने का ख्वाब देख रहे हैं। इसके पहले वो ईरान और सऊदी अरब को भी यही ऑफर दे चुके हैं। एक इंटरव्यू में इमरान ने कश्मीर मुद्दे को बातचीत से सुलझाने पर जोर दिया। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इमरान अगले महीने रूस दौरे पर जा रहे हैं। उनका यह कदम उन्हें अमेरिका से और दूर कर सकता है।

किन मुद्दों पर इमरान का क्या नजरिया इमरान ने चीन के सरकारी न्यूज चैनल को एक इंटरव्यू दिया। इसमें उन्होंने कई मुद्दों पर तफ्सील से बातें कीं। वो चार दिन के बीजिंग दौरे से हाल ही में लौटे हैं। 4 फरवरी को उन्होंने बीजिंग विंटर ओलिंपिक्स की इनॉगरेशन सेरेमनी में भी शिरकत की थी। बहरहाल, इमरान ने किस मुद्दे पर क्या कहा? आइए जानते हैं….

अमेरिका और चीन का तनाव इमरान ने कहा- हम नहीं चाहते कि दुनिया में एक और कोल्ड वॉर शुरू हो। अमेरिका से हमारे अच्छे रिश्ते हैं। चीन से तो फौलादी दोस्ती है। कोल्ड वॉर से किसी को फायदा नहीं होगा। इससे तो हर किसी को बस नुकसान ही होना है। 1970 में हमने अमेरिका और चीन के बीच मध्यस्थता की थी। अब भी मैं दोनों देशों को यही ऑफर दे रहा हूं। हम नहीं चाहते कि अमेरिका या चीन में से हमें किसी एक देश को चुनना पड़े। चीन और पाकिस्तान दोनों के भारत से कुछ विवाद हैं। कश्मीर पर हमारा विवाद है। उम्मीद है भविष्य में इस पर बातचीत होगी और मसला हल हो जाएगा।

अफगानिस्तान पड़ोसी देश अफगानिस्तान के हालात पर इमरान ने कहा- हम और चीन इस बात पर सहमत हैं कि अफगानिस्तान के लोगों ने 40 साल से जंग के अलावा कुछ नहीं देखा। पहली बार वहां अमन की उम्मीद है। हालांकि, वहां अभी सबसे बड़ा खतरा भूख और गरीबी का है। वो विदेशी मदद के भरोसे हैं और उनके अकाउंट्स फ्रीज कर दिए गए हैं। हम और चीन चाहते हैं कि हुकूमत को लेकर मतभेद एक तरफ रखकर हमें अफगानिस्तान की मदद करनी चाहिए।

CPEC (चाइना पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर) चाइना पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर यानी CPEC के बारे में पूछे गए सवाल पर इमरान ने कहा- यह हमारे लिए बेहद जरूरी प्रोजेक्ट है। हालांकि, यह मुश्किल वक्त है क्योंकि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ जंग लड़ रहा है। चीन ने सबसे मुश्किल वक्त में हमारा साथ दिया, इसलिए पाकिस्तानी चीन से प्यार करते हैं। हम चाहते हैं कि CPEC पर काम तेजी से हो। चीन हमारी एग्रीकल्चर सेक्टर में भी मदद करे। चीनी कंपनियां पाकिस्तान में ज्यादा इन्वेस्टमेंट कर सकती हैं। हमारे यहां 25 फीसदी से ज्यादा आबादी गरीबी रेखा से नीचे रहती है। हम चीन का मॉडल अपनाकर इन्हें बेहतर जिंदगी दे सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button