विदेश

यूक्रेन विवाद को देखते हुए दोनों देशों के बीच बढ़ेगी उड़ानों की संख्या, संख्या बढ़ाने पर कई एयरलाइंस के साथ बातचीत कर रहे हैं

यूक्रेन को लेकर तनाव के बीच वहां रह रहे भारतीयों की सुविधा के लिए भारतीय अधिकारी यूक्रेन से उड़ानों की संख्या बढ़ाने पर कई एयरलाइंस के साथ बातचीत कर रहे हैं।

यूक्रेन को लेकर तनाव के बीच वहां रह रहे भारतीयों की सुविधा के लिए भारतीय अधिकारी यूक्रेन से उड़ानों की संख्या बढ़ाने पर कई एयरलाइंस के साथ बातचीत कर रहे हैं। उड़ानों की संख्या में बढ़ोतरी मुख्य रूप से भारतीय स्टूडेंट्स के लिए है, जिन्हें वहां के हालात को देखते हुए यूक्रेन छोड़ने पर विचार करने को कहा गया है। इसी को लेकर भारत और यूक्रेन के बीच उड़ानों की संख्या कैसे बढ़ाई जाए, इस पर सिविल एविएशन अधिकारियों और कई एयरलाइंस के साथ चर्चा चल रही है। एक अधिकारी ने हिन्दुस्तान टाइम्स से बातचीत में कहा है कि हमें पता है कि कई भारतीय स्टूडेंट्स अभी यूक्रेन में हैं और उनके घरवाले इस बात को लेकर चिंतित हैं कि वे कब भारत आएंगे। विदेश मंत्रालय स्थापित कर रहा नियंत्रण कक्ष यूक्रेन में भारतीय नागरिक और भारत में उनके परिवारों के सवालों का जवाब देने के लिए यूक्रेन की राजधानी कीव में भारतीय दूतावास और विदेश मंत्रालय द्वारा नियंत्रण कक्ष स्थापित किए जा रहे हैं। कीव स्थित भारतीय दूतावास ने भारतीयों, विशेषकर छात्रों से कहा था कि वे देश से बाहर जाने पर विचार करें और आक्रमण की आशंका के बीच देश के भीतर गैर-जरूरी यात्रा से बचें। दूतावास किसी भी मामले से निपटने के लिए घटनाक्रम की निगरानी कर रहा है। यूक्रेन में करीब 20 हजार भारतीय रह रहे रिपोर्ट्स के मुताबिक यूक्रेन में 20 हजार से अधिक लोग रह रहे हैं। इसमें से 18 हजार के करीब छात्र हैं। कुछ छात्रों ने भारत के लिए उड़ानों की बढ़ती कीमतों को लेकर भी चिंता जताई है। नई दिल्ली अब तक मास्को के साथ घनिष्ठ रणनीतिक संबंधों को देखते हुए यूक्रेन के साथ सीमा पर रूस की कार्रवाई की आलोचना करने से बचता रहा है। भारत ने राजनयिक प्रयासों के जरिए यूक्रेन में स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान पर जोर दिया है। यूक्रेन बॉर्डर से वापस लौट रहे सैनिक?
रूस ने क्रीमिया में जारी सैन्य अभ्यास को खत्म करने की घोषणा की है और बताया है कि सैनिक वापस लौट रहे हैं। रूसी सरकारी मीडिया ने सैनिकों के लौटने की तस्वीरें और वीडियो दिखाई हैं। इससे पहले 15 फरवरी को ऐसी रिपोर्ट्स आई थी कि रूस के कुछ सैनिकों को वापस बुला लिया है हालांकि रूस का बेलारूस के साथ सैन्य अभ्यास जारी है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है रूस ने भले ही कुछ सैनिक वापस लिए हो लेकर मॉस्को अब भी कीव पर हमला कर सकता है। हालांकि व्लादिमीर पुतिन ने लगातार यूक्रेन पर हमला करने से इनकार किया है।  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button