विदेश

अमेरिका का बड़ा दावा- रूसी आक्रमण के बाद की योजना में जबरन गायब होना ,

यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका ने यूनाइटेड नेशन को बताया है कि उसके पास पुख्ता  जानकारी है कि रूस ने कब्जे के बाद  यूक्रेनियन की एक सूची तैयार किया है।

यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका ने यूनाइटेड नेशन को बताया है कि उसके पास पुख्ता  जानकारी है कि रूस ने कब्जे के बाद  यूक्रेनियन की एक सूची तैयार किया है। ‘द वाशिंगटन’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका ने चिट्ठी लिख कर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख को सूचित किया है। चिट्ठी में आरोप लगाया गया है कि रूसी आक्रमण के बाद की योजना में जबरन गायब होना ,यातना, और व्यापक मानवीय पीड़ा शामिल होगी। रूस ने किया खंडन रूसी रक्षा मंत्री क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए  पत्र के दावों को खंडन किया। उनका कहना है “यह झूठ है। यह महज एक कल्पना है। ऐसी कोई सूची नहीं है। यह नकली दावे हैं। “जिनेवा में अन्य अंतरराष्ट्रीय  और संयुक्त राष्ट्र  संगठनों में अमेरिकी राजदूत बाथशेबा क्रोकर के लिखे गए पत्र में कहा गया है, “मैं आपके ध्यान में हाल ही में संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा प्राप्त परेशान करने वाली जानकारी की तरफ लाना चाहता हूं। यह जानकारी मानवाधिकारों का उल्लंघन और हनन के संकेत देते हैं। एक और आक्रमण के बाद की योजना बनाई जा रही है।” पत्र में क्या लिखा? यूनाइटेड नेशन के उच्चायुक्त मिशेल बाचेलेट को संबोधित पत्र में कहा गया है, “रूस के द्वारा यूक्रेन में लोगों की हत्याएं, अपहरण, जबरन गायब होना, अन्यायपूर्ण हिरासत और यातना जैसे कदम उठाए जाने की संभावना है। संभवतः उन लोगों को निशाना बनाया जाएगा जो रूसी कार्यों का विरोध करते हैं।” उन्होंने कहा कि रूसी सेना के लक्ष्यों में यूक्रेन में रहने वाले  लोग, भ्रष्टाचार विरोधी कार्यकर्ता और पत्रकार , धार्मिक और जातीय अल्पसंख्यक, एलजीबीटीक्यूआई जैसी कमजोर आबादी शामिल होंगे।पत्रा में लिखा गया गया है, “हमारे पास पुखता  जानकारी है कि रूसी सेना एक सैन्य कब्जे के बाद मारे जाने या शिविरों में भेजे जाने के लिए पहचाने गए यूक्रेनियन की सूची बना रही है।” यह पत्र रविवार रात स्विट्जरलैंड में यूनाइटेड नेशन human rights office को भेजा गया था। वही क्रेमलिन ने  इन दावों से इनकार किया है कि वह यूक्रेन पर आक्रमण करने की योजना बना रहा है। और यूनाइटेड स्टेट्स और बेस्ट गवर्नमेंट  को अस्थिर करने के लिए गलत सूचना फलाई जा रही है। रूस ने यूक्रेन की सीमा के पास लगभग 150,000 सैनिकों को तेनात किया है । साथ ही उसने यह मांग की है कि यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका गारंटी दे कि यूक्रेन कभी नाटो सदस्य नहीं बनेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button