लाइफस्टाइल

इम्यूनिटी को बढ़ाने से लेकर सूजन और दर्द को कम करने तक, गुड़ काफी फायदेमंद हो सकता है।

लाइफ के सबसे खूबसूरत पलों में से एक होती है प्रेगनेंसी। इस दौरान यूं तो कई मुश्किलें सामने आती हैं लेकिन इन सभी का परिणाम बेहद प्यारा होता है

लाइफ के सबसे खूबसूरत पलों में से एक होती है प्रेगनेंसी। इस दौरान यूं तो कई मुश्किलें सामने आती हैं लेकिन इन सभी का परिणाम बेहद प्यारा होता है। एक मां की गोद में जब बच्चा आता है तो वह हर उस दर्द को भूल जाती है जो उसने बच्चे को जन्म देते समय सहा है। हालांकि इस दौरान बार-बार मूड स्विंग्स होते हैं और ऐसे में सबसे ज्यादा मन चलता है अलग-अलग चीजें खाने का। ऐसे में अगर आपका मन कुछ मीठा खाने का करता है और आप इस समय में कुछ हेल्दी खाने को चुनना चाहते हैं तो आपके लिए गुड़ फायदेमंद साबित हो सकता है। गर्भवती महिलाओं के लिए गुड़ कम मात्रा में खाना फायदेमंद होता है। हार्मोनल असंतुलन को प्रबंधित करने से लेकर, अपनी इम्यूनिटी को बढ़ाने से लेकर सूजन और दर्द को कम करने तक, गुड़ काफी फायदेमंद हो सकता है। 1) आयरन से भरपूर है गुड़ हेल्दी ब्लड सेल्स की ग्रोथ के लिए गुड़ काफी जरूरी रोल प्ले करता है। गुड़ में आयरन की मात्रा होती है, जो इसे शक्कर से बेहतर बनाता है। 2) हड्डियों के लिए फायदेमंद गुड़ की मदद से हड्डियां मजबूत होती हैं क्योंकि इसमें मैगनिशियम की मात्रा होती है। आप गुड़ को अपनी रोजाना के खाने में शामिल कर सकते हैं। 3) इन्फेक्शन में मददगार है गुड़ गुड़ उन लोगों के लिए बेहतरीन है जिनका इम्यून सिस्टम ठीक नहीं है। गुड़ खून को प्यूरिफाई करता है, प्रेगनेंसी के समय में गुड़ खाने से शरीर से टॉक्सिन बाहर निकलते हैं। गुड़ में काफी एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं, जो इन्फेक्शन से बचाने में मदद कर सकते हैं।  4) पाचन में होगी सुधार अगर प्रेगनेंसी के समय डायजेशन से संबंधित परेशानी जैसे कॉन्सटिपेशन या इनडायजेशन है तो गुड़ खाएं। गुड़ शक्कर का प्राकृतिक फॉर्म है।   5) पानी की कमी से बचाता है पानी की कमी का होना मामूली है। खासकर प्रेगनेंसी के समय पर ये जरूर होता है। ऐसे में गुड़ आपकी मदद कर सकता है। गुड़ में मोडरेट अमाउंट में पोटेशियम और सोडियम होता है, ऐसे में ये इलेक्ट्रोलाइट बैलेंट करने में मददगार साबित हो सकता है। कैसे खाएं गुड़ वैसे तो आप एक छोटा सा टुकड़ा गुड़ का यूं ही खा सकते हैं, लेकिन अगर आप इसे शक्कर से रिपलेस कर चाय में मिलाना चाहते हैं तो पाउडर वाला गुड़ अच्छा रहेगा।    कब से खाए गुड़  प्रेगनेंसी के पहले दो महीने में मां को आयरन की ज्यादा जरूरत होती है। इस समय एनीमिया होने का खतरा ज्यादा बना रहता है। इसलिए आयरल की जरूरत को देखते हुए प्रेगनेंट महिलाएं गुड़ खाना शुरू कर सकती हैं।  हालांकि, ओरल रूप में आयरन खाना पहली तीन महीनों में करने से बचना चाहिए। क्योंकि यह बेचैनी और उल्टी का कारण भी बन सकता है। इसे खाना शरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button