कन्नौज

कन्नौज में भाजपा सांसद सुब्रत पाठक ने सपा के राष्ट्रीय अखिलेश यादव पर बोला जुबानी हमला

कन्नौज में भाजपा सांसद सुब्रत पाठक ने सपा के राष्ट्रीय अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए कहा कि कन्नौज को अपनी जागीर समझने वाले अखिलेश यहां से चुनाव हारने के बाद से लगातार मेंटल ट्रामा से जूझ रहे है।

कन्नौज में भाजपा सांसद सुब्रत पाठक ने सपा के राष्ट्रीय अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए कहा कि कन्नौज को अपनी जागीर समझने वाले अखिलेश यहां से चुनाव हारने के बाद से लगातार मेंटल ट्रामा से जूझ रहे है। मैनें कई बार उनसे विकास को लेकर सवाल किए लेकिन उन्होंने जबाव नहीं दिया। सांसद से अखिलेश से सवाल करके हुए कहा कि वह 12 साल और उनकी पत्नी 7 साल यहां की सांसद रही है। उन्होंने विकास के लिए क्या क्या काम किए है। उन्होंने ने इत्र उद्योग को बढ़ाने के लिए, आलू और मक्का की फसल करने वाले किसानों के लिए, स्वास्थ्य सुविधाओं, शैक्षिण संस्थाओं के सुधार के लिए, युवाओं, महिलाओं और स्वयं सहायता समूहों के रोजगार के लिए क्या काम किया है। कहा कि अखिलेश यादव ने सिर्फ अपनी पार्टी के शिक्षा माफियाओं के शिक्षा संस्थाओं को निधि देने के अलावा कुछ काम नहीं किया है। कहा कि अखिलेश यादव वर्ष 2000 में चुनाव लड़ा तब हलफनामा में उन्होंने शैक्षिण योग्यता में आस्ट्रेलिया के सिडनी यूनिवर्सिटी से परास्नातक लिखा था। 2004 के चुनाव में भी उनकी ब्राडिंग आस्ट्रेलिया से शिक्षित युवा के रूप में की गई। लेकिन जब तीसरी 2009 में अखिलेश ने चुनाव लड़ा तब उन्होंने ने अपने हलफनामा में मैसूर से स्नातक बताया था। तब से अब तक हर चुनाव में वह स्नातक ही बने हुए है। उनकी आस्ट्रेलिया वाली डिग्री कहां खोई है। इस पर वह मौन साधे है। कहा कि अखिलेश ने जाते जाते कुछ कार्यों का सिर्फ शिलान्यास किया था। लेकिन उन कार्यों को पूरा करने के लिए कोई फंड नहीं दिया गया था। अधूरे पड़े कामों को भाजपा सरकार ने फंड देकर पूरा कराया है। कहा कि अखिलेश यादव ने यहां पर सिर्फ और सिर्फ केवल राजनीति की है. अगर राजनीति न की होती और अपने कमीशन की चिंता न की होती तो शायद कन्नौज का विकास सही मायने में होता। भारत सरकार की ओर से एक हजार करोड़ की लागत से बनाई गई काऊ मिल्क प्लांट बनवाने से पहले क्या उन्होंने सर्वे कराया था। यहां पर गाय कितनी है, गाय का दूध कैसे आएगा. किसानों को जाने की रास्ता तक नहीं है. उन्होंने अपने लोगों को लाभ देने के लिए अपने लोगों की जमीन अधिग्रहण हो जाए और भारत सरकार द्वारा दिए गए पैसों से कमीशन मिल जाए। इसके अतिरिक्त उन्होंने ने कोई काम नहीं है. मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने अपना व अपने लोगों का विकास करने का काम किया है। रिपोर्ट -पंकज श्रीवास्तव

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button