उत्तर प्रदेशब्रेकिंग न्यूज़महोबास्वास्थ्य

महोबा जनपद में समूह द्वारा संचालित हो रहे कोटे को निरस्त किए जाने की मांग को लेकर अध्यक्ष सहित अन्य सदस्यों ने जिला अधिकारी को प्रार्थना पत्र सौंपा

उत्तर प्रदेश के महोबा जनपद में समूह द्वारा संचालित हो रहे कोटे को निरस्त किए जाने की मांग को लेकर अध्यक्ष सहित अन्य सदस्यों ने जिला अधिकारी को प्रार्थना पत्र सौंपा और बताया कि समूह की एक सदस्य द्वारा संचालित राशन कोटे का कोई ब्यौरा सदस्यों को नहीं दिया जा रहा और ना ही प्राप्त होने वाले लाभांश मैं हम सदस्यों को लाभ देने का काम हो रहा है।

उत्तर प्रदेश के महोबा जनपद में समूह द्वारा संचालित हो रहे कोटे को निरस्त किए जाने की मांग को लेकर अध्यक्ष सहित अन्य सदस्यों ने जिला अधिकारी को प्रार्थना पत्र सौंपा और बताया कि समूह की एक सदस्य द्वारा संचालित राशन कोटे का कोई ब्यौरा सदस्यों को नहीं दिया जा रहा और ना ही प्राप्त होने वाले लाभांश मैं हम सदस्यों को लाभ देने का काम हो रहा है। सदस्य और उसके पति ने कोटे पर कब्जा कर लिया है। जिसके चलते उक्त कोटा को निरस्त किए जाने की मांग लेकर डीएम के पास सभी पहुंचे हैं। पूरा मामला हम आपको बता दें महोबा के तहसील कुलपहाड़ विकासखंड जैतपुर में आने वाले कैथौरा गांव का है जहां संचालित बृहस्पति देव एस.एच.जी. समूह की अध्यक्ष सहित महिला सदस्यों द्वारा जिला अधिकारी को शिकायती पत्र दिया गया है। दिए गए शिकायती पत्र में समूह की अध्यक्ष पप्पी नामदेव, सचिव राजकुमारी, कोषाध्यक्ष अंगूरी सहित सदस्य प्यारीबाई, रामश्री,आदि महिला सदस्यों ने बताया कि उक्त समूह सभी महिलाओं द्वारा एक साथ शुरू किया गया था और समूह के नाम ही गांव में राशन बिक्री के लिए कोटा की दुकान शुरू की गई थी और उसका संचालन गांव में प्रारंभ कराया गया जिसकी जिम्मेदारी समूह की ही महिला सिकांति को सौपी गई थी लेकिन इस कोटा का ब्यौरा और होने वाली आमदनी की कोई जानकारी समूह की अध्यक्ष व अन्य को नही दी जा रही।आरोप है कि सिकान्ति पत्नी देवेंद्र राजपूत द्वारा कोटे संचालन का ब्यौरा मांगने पर लड़ने पर आमादा हो जाती है। डीएम से शिकायत करने पहुंची समूह की सभी महिलाएं बताती है कि उनकी भागीदारी से इस कोटा की शुरुआत हुई लेकिन होने वाले लाभांश में उन्हें लाभ नहीं दिया जा रहा। कई बार शिकायतों के बावजूद भी समस्या का निदान नहीं हुआ। ऐसे में जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर उक्त मामले की जांच कराकर समूह से कोटा निरस्त कराए जाने की मांग सभी ने की है। रिपोर्ट -सुमित तिवारी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button