बिज़नेसब्रेकिंग न्यूज़

रिलायंस का होगा अबू जानी संदीप खोसला फैशन हाउस

रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड (आरबीएल) अब अबू जानी संदीप खोसला (एजेएसके) में 51 प्रतिशत की हिस्सेदारी लेगी। हालांकि डील की राशि का खुलासा नहीं किया गया है। इस संबंध में दोनों कंपनियों ने एक साझा बयान जारी किया है।

 रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड (आरबीएल) ने मंगलवार को कहा कि वह अनडिस्क्लोज्ड अमाउंट पर मेजर फैशन हाउस अबू जानी संदीप खोसला (एजेएसके) में 51 प्रतिशत की हिस्सेदारी का अधिग्रहण करेगी। दोनों कंपनियों के एक संयुक्त बयान के अनुसार, रिलायंस समूह की फर्म आरबीएल ने एजेएसके में स्वयं या अपने सहयोगियों के माध्यम से निवेश करने के लिए एक निश्चित समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

इसमें कहा गया, “रणनीतिक साझेदारी का उद्देश्य भारत और दुनिया भर में 35 वर्षीय वस्त्र कंपनी की विकास योजनाओं को तेज करना है।” बयान में कहा कि ‘अबू जानी और संदीप खोसला ब्रांड के डिजाइन और क्रिएटिव का नेतृत्व करना जारी रखेंगे।’ बता दें कि आरबीएल, रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) की सहायक कंपनी है।

बयान में कहा गया, “इस नई साझेदारी के साथ, ब्रांड अविश्वसनीय भारतीय कारीगरों को चैंपियन बनाने और उनकी अद्भुत शिल्प कौशल को विश्व मंच पर लाने के लिए प्रतिबद्ध है। यह नए सिरे से फोकस ब्रांड को दुनिया भर में प्रतिस्पर्धा करते हुए भारत को बेहतरीन निर्माता के रूप में स्थापित करने में सक्षम बनाएगी।”

मुंबई स्थित अबू जानी और संदीप खोसला भारत के प्रमुख वस्त्र व्यवसायी हैं। कंपनी को 1986 में शुरू किया गया था। इनके कपड़े अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शानदार गुणवत्ता और क्लासिकल एलिगेंट स्टाइल के लिए जाने जाते है। फैशन कंपनी के वर्तमान में तीन ब्रांड हैं- एएसएएल, गुलाबो और मर्द हैं।

रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) की निदेशक ईशा अंबानी ने कहा, ‘भारत की अग्रणी फैशन कंपनी के साथ जुड़ना रोमांचकारी है।’ उन्होंने कहा कि ‘इससे हमें भारतीय शिल्प की पुनर्खोज के लिए उनकी उत्साही प्रतिबद्धता को एक मजबूत मंच देने का मौका मिलता है।’

गौरतलब है कि आरआरवीएल अरबपति मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सभी खुदरा कंपनियों की होल्डिंग कंपनी है और आरबीएल, आरआरवीएल की सहायक कंपनी है, जो लग्जरी और रिटेल परिदृश्य में अपना विस्तार कर रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button