देश

इस एयरपोर्ट पर बार-बार जाम हो रहे टॉयलेट

तुर्की के इस्तांबुल एयरपोर्ट पर टॉयलेट बार-बार जाम होने के पीछे भारतीयों का हाथ है. फर्जी पासपोर्ट रैकेट की जांच कर रही टीम को इसका सुराग भी मिला है

: तुर्की के इस्तांबुल एयरपोर्ट पर टॉयलेट बार-बार जाम (Jamming Toilets on Istanbul Airport) हो जाते हैं और आपको जानकर हैरानी होगी कि इसका सीधा संबंध भारतीयों से है. गुजरात में फर्जी पासपोर्ट रैकेट (Fake Indian Passport Racket) की जांच कर रही टीम को इसका सुराग भी मिला है, जिसने दावा किया है कि इस्तांबुल एयरपोर्ट पर टॉयलेट जाम होने की वजह भारतीय हैं.

कैसे टॉयलेट जाम कर रहे भारतीय?

दरअसल, गुजरात में फर्जी पासपोर्ट बनाकर लोगों को विदेश भेजने का अवैध धंधा तेजी से चल रहा है और इसकी जांच कर रही टीम ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. जांचकर्ताओं को लगता है कि इस्तांबुल एयरपोर्ट (Istanbul Airport) के टॉयलेट जाम होने के पीछे इन्हीं लोगों का हाथ है. जांच रिपोर्ट से पता चला है कि दलाल फर्जी पासपोर्ट पर लोगों को विदेश भेजते हैं और उन्हें कहा जाता है कि वो एयरपोर्ट पर लैंड करते ही पासपोर्ट को फाड़कर टॉयलेट में फ्लश कर दें ताकि उनका फर्जीवाड़ा पकड़ में नहीं आए. भारत से फर्जी पासपोर्ट के जरिए तुर्की जाने वालों की संख्या काफी ज्यादा होती है और यही वजह है कि इस्तांबुल एयरपोर्ट के टॉयलेट में फर्जी पासपोर्ट फाड़कर फेंक जाने की घटनाएं ज्यादा होती है, जिसकी वजह से टॉयलेट जाम हो जाते हैं.

पकड़े जाने पर डिपोर्ट कराए जाने का डर

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने बताया कि फर्जी पासपोर्ट (Fake Passport) पर यात्रा करने वालों को दलालों का सीधा निर्देश रहता है कि वो इस्तांबुल एयरपोर्ट पहुंचते ही सीधे टॉयलेट जाएं और फर्जी दस्तावेज फाड़कर फ्लश कर दें. ऐसा सीसीटीवी कैमरों, सुरक्षा बलों या इमिग्रेशन ऑफिसरों की पकड़ से बचने के लिए किया जाता है. क्योंकि फर्जी डॉक्यूमेंट के साथ एयरपोर्ट पर पकड़े जाने पर वो आगे यात्रा नहीं कर पाएंगे और उन्हें वापस भारत डिपोर्ट कर दिया जाएगा

अमेरिका, इंग्लैंड के तस्करों से सीखा तरीका

अधिकारी ने बताया कि फर्जी पासपोर्ट (Fake Passport) पर लोगों को विदेश भेजने का रैकेट चलाने वालों ने एयरपोर्ट के टॉयलेट में डॉक्यूमेंट बहाने का ट्रिक अमेरिका और इंग्लैंड के तस्करों से सीखा है. अधिकारी ने कहा कि लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट के टॉयलेट भी इसी कारण से अक्सर जाम होते रहते हैं.’

तुर्की के बाद मैक्सिको और अमेरिका तक यात्रा

अधिकारी ने बताया, ‘फर्जी दस्तावेज को शौचालय में बहाने के बाद इमिग्रेंट को मैक्सिकन एजेंट अपने कब्जे में ले लेता है जो उसे फिर से दूसरे फर्जी डॉक्यूमेंट सौंप देता है, जिसमें मैक्सिको का पासपोर्ट भी शामिल होता है. तुर्की में भारतीयों को मेक्सिको का नागरिक बताकर डॉक्यूमेंट्स तैयार कर किए जाते हैं और फिर वो आराम से हवाई रूट से मेक्सिको पहुंच जाते हैं. वहां से तस्कर उन्हें अमेरिका बॉर्डर तक ले जाते हैं.

आरोपियों को पकड़ना आसान नहीं

दलालों के काम करने के तरीकों पर फोकस करते हुए अधिकारी ने बताया कि यात्रा के दौरान फर्जी दस्तावेजों पर लोगों की पहचान कई बार बदल दी जाती है, जिससे एजेंसियों के लिए आरोपियों को पकड़ना आसान नहीं रह जाता है.

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button