विदेश

रूस के ऐक्शन के बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति ने भी दिखाए तेवर,युद्ध की स्थिति में पीछे न हटने के संकेत दिए हैं।

रूस ने यूक्रेन पर हमले की तैयारी कर ली है। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पूर्वी यूक्रेन में सैनिकों को भेजने का आदेश दिया है।

रूस ने यूक्रेन पर हमले की तैयारी कर ली है। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पूर्वी यूक्रेन में सैनिकों को भेजने का आदेश दिया है। इसके चलते दुनिया में तनाव की स्थिति पैदा हो गई है। इस बीच यूक्रेन ने भी युद्ध की स्थिति में पीछे न हटने के संकेत दिए हैं। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा कि हम किसी भी तरह का समझौता नहीं करेंगे। उन्होंने मंगलवार सुबह देश के नाम संबोधन में कहा कि हम रूसी हमले से नहीं डरेंगे और अपनी एक इंच जमीन भी नहीं देंगे। पूर्वी यूक्रेन के दो क्षेत्रों को रूस की ओर से अलग प्रांत की मान्यता दिए जाने के बाद यूक्रेन का यह रिएक्शन सामने आया है। रूस ने यूक्रेन के डोनेत्स्क और लुहान्स्क को अलग प्रांत की मान्यता दी है और इसके साथ ही यहां अपने सैनिकों को भी भेजना का फैसला लिया है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने सुरक्षा परिषद की मीटिंग के बाद कहा कि रूस की ओर से हमारी संप्रभुता का उल्लंघन किया जा रहा है। वह पूर्वी यूक्रेन में अलगाववाद को बढ़ावा देने का काम कर रहा है। जेलेंस्की ने कहा कि हम इस मसले को कूटनीतिक तौर पर ही हल करने के पक्ष में हैं, लेकिन रूस यदि मजबूर करता है तो फिर हम लंबी लड़ाई के लिए भी तैयार हैं। जेलेंस्की ने कहा, ‘हम शांतिपूर्ण और कूटनीतिक तरीके से संकट  का हल करने के पक्ष में हैं। हम इसी रास्ते को अपनाएंगे।’ इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘हम अपनी जमीन पर हैं और किसी भी चीज या किसी से भी डरते नहीं हैं। हम किसी को कुछ भी देने की तैयारी में नहीं हैं।’ इसके साथ ही उन्होंने यूक्रेन, रूस, जर्मनी और फ्रांस की तत्काल मीटिंग बुलाने की मांग की है ताकि संकट को टाला जा सके। इस बीच खबर है कि रूस ने यूक्रेन के डोनेत्स्क और लुहान्स्क प्रांत में अपने सैनिकों को भेज दिया है। यही नहीं बड़ी संख्या में हथियारों की तैनाती का भी फैसला लिया है। हालांकि रूस का कहना है कि हमने इन सैनिकों को शांति स्थापित करने के लिए भेजने का फैसला लिया है। बता दें कि पूर्वी यूक्रेन में रूसी मूल के लोगों की बड़ी आबादी है, जो लंबे समय से अलगाववादी आंदोलन चलाते रहे हैं। फिलहाल रूस ने इसी इलाके को टारगेट करने का फैसला लिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button