बिज़नेसब्रेकिंग न्यूज़

बैंकों के लिए आरबीआई से कर्ज लेना महंगा

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास महंगाई बढ़ने के बीच जरूरी बयान दे रहे हैं । यह बयान ऐसे समय है

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने बुधवार को Repo Rate में 40 बेसिस प्‍वाइंट की बढ़ोतरी की घोषणा की है। आरबीआई गवर्नर ने बताया कि केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति समिति ने सर्वसम्मति से रेपो दर में 40 बीपीएस बढ़ाने के लिए मतदान किया है। अब यह दर 4.4 फीसद हो गई है। रेपो दर में इस बढ़ोतरी से Home Loan, Car Loan और Personal Loan की EMI बढ़ने का अंदेशा है। CRR में भी 50 बेसिस प्‍वाइंट की बढ़ोतरी की गई है। रेपो रेट में बढ़ोतरी के बाद सेंसेक्‍स में 1300 से अधिक अंकों की गिरावट दर्ज की गई है।

आरबीआई गवर्नर ने महंगाई को काबू करने पर फोकस की बात कही है। उनका बयान ऐसे समय आया है जब वैश्विक मुद्रास्फीति भारत की रिकवरी के लिए एक चुनौती पेश कर रही है। बता दें कि यूएस फेडरल रिजर्व रिकॉर्ड मुद्रास्फीति को काबू करने के लिए प्रमुख ब्‍याज दर में 50 आधार अंक की बढ़ोतरी कर सकता है। आरबीआई गवर्नर के अचानक संबोधन की खबर से शेयर बाजारों में गिरावट का रुख रहा। सेंसेक्‍स 800 अंक गिर गया।

आरबीआई गवर्नर ने अप्रैल में मौद्रिक नीति समीक्षा में वित्त वर्ष 2023 के लिए मुद्रास्फीति के अनुमान को संशोधित कर 5.7 प्रतिशत किया था और आर्थिक विकास की दर को 7.2 प्रतिशत पर रखा था। इससे पिछली मौद्रिक नीति की समीक्षा में आरबीआई ने अपना फोकस ग्रोथ के बजाय मुद्रास्फीति पर करने का संकेत दिया था। वैश्विक कच्चे तेल की ऊंची कीमतों के साथ-साथ पाम तेल के निर्यात पर इंडोनेशियाई प्रतिबंध से भारत के लिए महंगाई काबू कर पाना मुश्किल हो रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button