उत्तर प्रदेशकानपुर देहात

कानपुर देहात :बुजुर्ग किसान खुद को जीवित साबित करने के लिए डेढ़ साल से अधिकारियों के दफ्तर के लगा रहा हैं चक्कर

कानपुर देहात से एक ऐसा मामला सामने आया है जहां पर अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल खड़े हो गए हैं, एक बुजुर्ग किसान को अधिकारियों ने कागजों पर मृत घोषित कर दिया है अब वह किसान खुद को जीवित साबित करने के लिए डेढ़ साल से अधिकारियों के चौखट के चक्कर काट रहा है,

कानपुर देहात से एक ऐसा मामला सामने आया है जहां पर अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल खड़े हो गए हैं, एक बुजुर्ग किसान को अधिकारियों ने कागजों पर मृत घोषित कर दिया है अब वह किसान खुद को जीवित साबित करने के लिए डेढ़ साल से अधिकारियों के चौखट के चक्कर काट रहा है, बुजुर्ग किसान खुद को जीवित साबित करने के लिए तहसील के अधिकारियों से लेकर डीएम से भी गुहार लगा चुका हैं, लेकीन अधिकारियों ने इस बात को नजरअंदाज कर दिया, अब बुजुर्ग किसान ने कानपुर के मंडलायुक्त डॉ राजशेखर को प्रार्थना पत्र देकर खुद को जीवित करने के लिए गुहार लगाई है। कानपुर देहात के ब्लॉक मालासा क्षेत्र के ग्राम सिथरा बुजुर्ग निवासी राम अवतार को सचिव ने कागजों में मृत घोषित कर दिया जिसकी वजह से बुजुर्ग किसान को तमाम सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है, जब कई महीनों से उसको किसान सम्मान निधि व वृद्धावस्था पेंशन नहीं मिली तो उसने अधिकारियों के चौखट के चक्कर काटना शुरू कर दिया काफी समय तक चक्कर काटने के बाद उसको पता चला कि कागजों में उसे मृत घोषित कर दिया गया है,जिसकी वजह उसकी सारी सरकारी सुविधाएं रुकी हुई है, अब जैसे ही किसान ने खुद को मृत होने की बात सुनी तो वह परेशान हो गया और उसने फिर से तमाम अधिकारियों के पास खुद को जिंदा साबित करने के लिए चक्कर काटना शुरू कर दिया तहसील से लेकर जनपद की जिलाधिकारी कार्यालय तक उसने खूब दौड़ भाग की लेकिन अधिकारियों ने इस पूरे मामले को नजरअंदाज कर दिया जिसके बाद उसने कानपुर के आयुक्त से शिकायत की पूरे मामले में अपर आयुक्त प्रशासन प्रेम प्रकाश उपाध्याय ने सीडीओ को जांच कराने के साथ दोषी पर कार्रवाई के निर्देश दिए थे मामले में काफी समय बीतने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई तो राम अवतार ने दोबारा शिकायत मंडल आयुक्त डॉ राजशेखर से की इस पर आयुक्त ने डीएम व सीडीओ को जांच कराने के साथ दोषी कर्मचारी पर कार्रवाई कर 15 दिसंबर तक रिपोर्ट तलब की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button