उत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़राजनीतिलखनऊ

लखनऊ : मुख्य सचिव से 15 देशों में तैनात भारतीय राजदूतों व उच्चायुक्तों ने की शिष्टाचार भेंट

लखनऊ - मुख्य सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्र से 15 देशों में तैनात भारतीय राजदूतों/उच्चायुक्तों ने शिष्टाचार भेंट की।कल भारतीय राजदूतों के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की थी मुलाकात।

लखनऊ – मुख्य सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्र से 15 देशों में तैनात भारतीय राजदूतों/उच्चायुक्तों ने शिष्टाचार भेंट की।कल भारतीय राजदूतों के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की थी मुलाकात।यूपी में इन्वेस्टर समिट-2023 के पहले भारतीय राजदूतों के इस दौरे को काफी अहम माना जा रहा है। अपने संबोधन में मुख्य सचिव ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के विजन के अनुरूप ‘ट्रेड, टेक्नोलॉजी और टूरिज्म’ से यूपी का विकास हो रहा है। उन्होंने कहा कि 10-12 फरवरी, 2023 को ‘उत्तर प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर समिट’ आयोजित किया जाएगा। यह तीन दिवसीय ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट अभूतपूर्व होगा, ऐतिहासिक होगा और नए ‘उत्तर प्रदेश की आकांक्षाओं को उड़ान’ देने वाला होगा। व्यापक निवेश से बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर सृजित होंगे, जिसका सीधा लाभ हमारे युवाओं को मिलेगा। ‘ग्लोबल इन्वेस्टर समिट वर्ष-2023’ प्रदेश को 01 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य की पूर्ति में सहायक होगा। मुख्य सचिन ने कहा कि ओडीओपी योजना के प्रभावी क्रियांवयन से प्रदेश से निर्यात में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक पार्क, टॉय पार्क, फिल्म सिटी, लॉजिस्टिक पार्क, मेगा लेदर पार्क, मेडिकल डिवाइस पार्क जैसे सेक्टर आधारित प्रोजेक्ट को आगे बढ़ा रही है। एयर कनेक्टिविटी का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश में बेहतर एयर कनेक्टिविटी है। भारत सरकार द्वारा संचालित ‘उड़ान योजना’ का उत्तर प्रदेश ने सर्वाधिक लाभ लिया है। इससे पूर्व, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री अरविंद कुमार ने बताया कि लखनऊ में 10 से 12 फरवरी, 2022 तक यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2023 आयोजित किया जाएगा। समिट का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे ।माना ये जा रहा है कि कार्यक्रम में 10 हजार से ज्यादा डेलीगेट्स उपस्थित रहेंगे। इस कार्यक्रम के समापन सत्र की अध्यक्षता राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू करेंगी। चर्चा के दौरान राजदूतों द्वारा उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिये फण्ड रेजिंग डिपार्टमेंट बनाने के साथ अन्य महत्वपूर्ण सुझाव दिये गये, जिस पर मुख्य सचिव ने विभागीय अधिकारियों से कहा कि दिये गये सुझावों पर विचार-विमर्श कर अमल में लाया जाये। इस अवसर पर कृषि उत्पादन आयुक्त श्री मनोज कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव कृषि श्री देवेश चतुर्वेदी भी मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button