स्वास्थ्य

पाचन अंगों से लेकर रीढ़ की दिक्कतों तक में लाभकारी है मार्जरी आसन

योगासनों को दिनचर्या का हिस्सा बनाना स्वास्थ्य के लिए बहुत कारगर माना जाता है। योग के अभ्यास से शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की सेहत को विशेष लाभ मिलता है

पाचन अंगों की कार्यक्षमता को बढ़ाने और शरीर की बेहतर तरीके से स्ट्रेचिंग करने में भी इस योग से लाभ हो सकते हैं। मार्जरी आसन का अभ्यास कैसे किया जाता है? मार्जरी आसन का अभ्यास काफी सरल है और इसे सभी उम्र के लोग करके लाभ प्राप्त कर सकते हैं। यह आसन शरीर की अकड़न को कम करके आपको सक्रिय बनाने में भी काफी मददगार हो सकता है। इस योग के अभ्यास के लिए सबसे पहले फर्श पर दोनों घुटनों और दोनों हाथों को टेक कर बिल्ली जैसी मुद्रा बनाएं। जांघों को ऊपर की ओर सीधा करके पैर के घुटनों पर 90 डिग्री का कोण बनाएं
कैट काऊ पोज के अभ्यास से होने वाले लाभ योग विशेषज्ञ बताते हैं, मार्जरी योग के अभ्यास से शारीरिक और मानसिक दोनों प्रकार की सेहत को विशेष लाभ मिलता है।
  • यह रीढ़ के लिए बहुत अच्छा अभ्यास है। रीढ़ की हड्डी को फैलाने और इसके लचीलेपन में सुधार करते हुए इसे मजबूत बनाता है।
  • यह आसन आपकी कलाइयों को मजबूत बनाता है।
  • कैट काऊ पोज से कंधों को मजबूती मिलती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button