अन्यक्राइम न्यूज़देशब्रेकिंग न्यूज़

माँ हॉस्पिटल के बाहर डॉक्टर का 12 घंटों तक करती रही इंतज़ार ,बच्चे ने माँ के गोद में ही तोड़ा दम

जबलपुर के बरगी स्थित शासकीय आरोग्यम अस्पताल में जिम्मेदारों की बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां पर एक 5 साल के मासूम बच्चे को समय से इलाज नहीं मिल पाया जिसकी वजह से मासूम ने अपनी मां की गोद में ही दम तोड़ दिया.

जबलपुर के बरगी स्थित शासकीय आरोग्यम अस्पताल में जिम्मेदारों की बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां पर एक 5 साल के मासूम बच्चे को समय से इलाज नहीं मिल पाया जिसकी वजह से मासूम ने अपनी मां की गोद में ही दम तोड़ दिया. दरअसल बरगी के नजदीकी चरगवां थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम तिनेहटा देवरी से बालक ऋषि पन्द्रे उम्र 5 वर्ष को बुधवार सुबह इलाज के लिए अस्पताल लाया गया तो वहां पर पदस्थ डॉक्टर आये ही नही थे. डॉक्टरों का माता-पिता अपने बच्चे के इलाज के लिए इंतजार करते रहे इस दौरान दोपहर के 12 बज गए और जब डॉक्टर साहब अपनी ड्यूटी पर सुबह 10,30 बजे की जगह दोपहर 12 बजे के बाद आये तब तक इलाज के लिए अस्पताल के सामने अपनी मां की गोद में लेटे मासूम बच्चे ने दम तोड़ दिया था.
  स्वास्थ्य विभाग ने आरोपों को नकारा इस पूरे मामले पर मृतक के परिजनों सहित बरगी के स्थानीय लोगों ने साफ तौर पर डॉक्टर पर देर से आने और उनकी वजह से बच्चे की मौत होने का आरोप लगाया है. इधर इस पूरे घटनाक्रम में क्षेत्रीय स्वास्थ्य संचालक डॉ संजय मिश्रा का कहना है कि परिजनों द्वारा लगाए आरोप पूरी तरह से निराधार हैं. क्योंकि जब परिजन अपने बच्चे को लेकर अस्पताल पहुंचे तो वहां पर एक डॉक्टर तैनात था जिसने बच्चे की जांच भी की डॉक्टर की समझाइश के बाद परिजन बच्चे को वापस अपने घर ले गए लेकिन फिर कुछ लोगों के बहकावे में आकर फिर अस्पताल पहुंचे और आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए. जिम्मेदार अधिकारी डॉक्टरों की अनुपस्थिति की बात से साफ इंकार कर रहे हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button