स्वास्थ्य

गिल्टी माइंड्स’ की एक्ट्रेस श्रिया पिलगांवकर ने कहा- ‘लोग कहते हैं, मेरी आदतें मम्मी की तरह हैं’

श्रिया पिलगांवकर वेटरन एक्टर सचिन पिलगांवकर और सुप्रिया पिलगांवकर की बेटी हैं। श्रिया ओटीटी प्लेटफॉर्म पर काफी मसरूफ हैं और अलग-अलग प्रोजेक्ट्स में नजर आ रही हैं।

 अभिनेत्री श्रिया पिलगांवकर अब खुद को करियर के उस दौर में मानती हैं, जहां वह नए-नए किरदारों के साथ आसानी से प्रयोग कर सकती है। हालिया रिलीज मिनी वेब सीरीज ‘मर्डर इन एगोंडा’ में जहां वह फोरेंसिक एक्सपर्ट की भूमिका में जासूसी करती नजर आईं, वहीं वेब सीरीज ‘गिल्टी माइंड्स’ में वह वकील के किरदार में हैं। यह शो अमेजन प्राइम वीडियो पर उपलब्ध है। करियर के इस दौर और घर के माहौल को लेकर बातचीत।

जासूसी कहानियों और किरदारों से कैसा लगाव रहा है?

मुझे मर्डर मिस्ट्री और थ्रिलर कहानियों में बहुत दिलचस्पी है। जासूसी से जुड़ी कहानियां तो मैं बचपन से ही पढ़ती आई हूं। मजेदार बात यह है कि उन कहानियों को पढ़ते वक्त किताब खत्म होने से मैं खुद उन मामलों को सुलझाने का प्रयास करती थी। मुझे हमेशा लगता था कि मैं अच्छी जासूस बन सकती हूं। मुझे यह पेशा बहुत अच्छा लगता है, इसलिए मैं एक बार महाराष्ट्र की पहली प्राइवेट महिला जासूस रजनी पंडित से मिली भी हूं।

गिल्टी माइंड्स में पहली बार वकील का किरदार निभाने की प्रक्रिया कैसी रही?

मेरे दिमाग में एक चीज थी कि मुझे किरदार में स्वाभाविक दिखना है। टिपिकल फिल्मी वकील की तरह नहीं। मेरी निर्देशक शेफाली भूषण खुद भी वकीलों के परिवार से आती हैं, उनके पिता और भाई वकील हैं। मुझे उन पर पूरा विश्वास था कि वह ठीक तरीके से मेरा मार्गदर्शन कर पाएंगी। इसकी तैयारी के लिए मैं कई बार कोर्ट गई, अपने वकील दोस्तों से बातचीत कर उनकी कार्यशैली को समझा। यह थोड़ा अलग किस्म का शो है, इसमें वकील बॉलीवुड इंडस्ट्री, कॉपीराइट, डेटिंग ऐप और पानी जैसे सामाजिक मुद्दे पर आधारित अलग-अलग केसेस पर लड़ते हैं। इसमें थोड़ा रोमांटिक एंगल और ड्रामा भी है, जिसमें लोगों को मजा आएगा।

कोई ऐसी चीज जिसके लिए आप गिल्टी (दोषी) महसूस करती हों?

कभी-कभी मैं खुद से बहुत सख्ती से पेश आती हूं, तो उसके लिए गिल्टी फील करती हूं। कभी-कभी ओवरथिंकिंग (जरूरत से ज्यादा सोचने) के लिए गिल्टी फील करती हूं, कई बार तो गलत खाना खाने जैसी छोटी-छोटी चीजें पर भी गिल्टी फील करती हूं, लेकिन सिर्फ थोड़ी देर के लिए। जब कभी मैं अपनी मां से झगड़ती हूं, और गुस्से में मैं कुछ तेज आवाज में बोल देती हूं, तो उस वक्त हम दोनों गिल्टी फील करते हैं। वैसे भी झगड़े के बाद मैं ज्यादा देर तक गुस्सा नहीं रह सकती हूं, मैं हंस देती हूं। खुद भी पहले मैं सारी बोल ही देती हूं।

कभी किसी प्रोजेक्ट को करने या इन्कार करने के लिए गिल्टी फील किया है?

(सोचकर) एक प्रोजेक्ट था, मैं उसका नाम तो नहीं बता सकती, पर मुझे उसको लेकर ज्यादा आत्मविश्वास नहीं था, तो मैंने नहीं किया। हालांकि, बाद में वह प्रोजेक्ट बहुत अच्छा बनाया गया। उस समय मुझे लगा कि शायद उसे करना चाहिए था। पर हमेशा उसी सोच में नहीं रह सकती हूं। हर चीज की अपनी किस्मत होती है। आपने नहीं किया, तो नहीं किया। इस कहानी में भी बहुत से ऑडिशन हुए, लेकिन कहानी ने मुझे चुना। ऐसी चीजें तो करियर में होती रहती हैं।

खुद को स्क्रीन पर देखने के बाद अपने काम में मम्मी या पापा में से किसका प्रभाव ज्यादा देखती हैं?

लोग अक्सर मुझसे कहते हैं कि मेरी आदतें मेरी मम्मी की तरह हैं, मेरे हाव-भाव में उन्हें मेरी मम्मी नजर आती हैं। लेकिन मेरा व्यक्तित्व पापा और मम्मी दोनों की तरह है। लेकिन ये मैं जानबूझकर नहीं करती, आप किसी को भी पूरी तरह कॉपी नहीं कर सकते हैं और यह होना भी नहीं चाहिए। मेरे लिए तो दोनों प्रिय हैं। पापा और मम्मी, दोनों के अनुभव और काम अलग-अलग रहे हैं। मैं ठहरी उनकी इकलौती संतान, तो मेरे अंदर दोनों के कुछ न कुछ गुण हैं। मुझे जीवन की नैतिकताओं और मुश्किल परिस्थितियों से लडऩे की सीख उनसे ही मिली है।

जब मम्मी-पापा के बीच नोकझोंक होती है, तो आप किसकी तरफ होती हैं?

(हंसते हुए) दोनों को लगता है कि मैं उनके खिलाफ हूं। लेकिन ईमानदारी से कहूं तो मैं हमेशा निष्पक्ष रहने की कोशिश करती हूं। मैंने समझ लिया है कि कभी भी मम्मी-पापा की नोकझोंक के बीच में तो पडऩा ही नहीं है। उनको जो भी करना है, करने दो, आप सिर्फ सुनो।

इसके अलावा और किन प्रोजेक्ट्स पर काम कर रही हैं?

इस साल मेरे छह प्रोजेक्ट रिलीज होने वाले हैं। उनमें से तीन की अभी घोषणा नहीं हुई है, तो फिलहाल उनके बारे में बात नहीं कर सकती हूं। हालांकि, खास बात यह है कि इन सारे प्रोजेक्ट्स में मेरे किरदार एकदूसरे से अलग हैं। उनमें से एक कॉमेडी है, तो एक में मैं न्यूज रिपोर्टर का किरदार निभा रही हूं। इसके अलावा वेब सीरीज क्रैकडाउन और द गॉन गेम दूसरा सीजन भी तैयार है। क्रैकडाउन के दूसरे सीजन को हमने कश्मीर और जैसलमेर में शूट किया है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button