देश

जिन्ना टावर पर तिरंगा फहराने की कोशिश की. बवाल के बाद हिरासत में लिए गए हिंदू वाहिनी के नेता

जिला प्रशासन को भी इस झंडारोहण के कार्यक्रम की खबर थी इसलिए गुंटुर नगर निकाय अधिकारियों ने पुलिस के साथ जिन्ना टावर की घेराबंदी कर दी.

26 जनवरी के दिन आंध्र प्रदेश के गुंटूर इलाके में जमकर बवाल हुआ. पुलिस-प्रशासन को हालात बिगड़ने की आशंका थी इसलिए यहां एहतियातन धारा 144 लगाई गई थी. इसके बावजूद कुछ हिंदू संगठनों ने मोहम्मद अली जिन्ना (Muhammad Ali Jinnah) के नाम वाले टावर पर तिरंगा फहराने की कोशिश की. इस दौरान कोठापेट इलाके में करीब 15 से 20 नेताओं को हिरासत में लिया गया है.

हालात तनावपूर्ण

इस इलाके में तनाव को देखते हुए पुलिस फोर्स तैनात की गई है. स्थानीय पुलिस अधिकारियों के मुताबिक हिंदू वाहिनी संगठन के कुछ सदस्य जिन्ना टावर की ओर मार्च करते हुए जा रहे थे. उन्होंने जिन्ना टावर पर तिरंगा फहराने की कोशिश की. जिला प्रशासन को भी इस झंडारोहण के कार्यक्रम की खबर थी इसलिए गुंटुर नगर निकाय अधिकारियों ने पुलिस के साथ जिन्ना टावर की घेराबंदी कर दी. वहां पर भारी तादाद में फोर्स तैनात की गई थी. BJP की मांग इधर युवाओं को हिरासत में लिए जाने की खबर के बाद दर्जनों की संख्या में लोग एकत्र हो गए. लोगों ने हंगामा किया और युवओं को छोड़ना की मांग की. आपको बता दें कि 30 दिसंबर को बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सोमु वीरराजू ने कहा था कि जिन्ना टावर का नाम बदलकर पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर किया जाए या दलित कवि गुरराम जोशुआ के नाम पर किया जाए  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button