लाइफस्टाइल

इन शिव मंदिरों के दर्शन करें , पूरी होंगी सभी मनोकामनाएं

महाशिवरात्रि का त्योहार (Maha Shivratri 2022) हर साल बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है.

महाशिवरात्रि का त्योहार (Maha Shivratri 2022) हर साल बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है. इस साल महाशिवरात्रि का त्योहार 01 मार्च को मनाया जा रहा है. इस दिन शिव भक्त भगवान की पूजा करते हैं और व्रत रखते हैं. ऐसा माना जाता है कि इस दिन शिव जी और माता पार्वती का विवाह हुआ था. इस दिन लोग भगवान शिव को समर्पित मंदिरों (Maha Shivratri) में जाना पसंद करते हैं. भारत के अलग-अलग हिस्सों में भगवान शिव के प्रसिद्ध और प्राचीन मंदिर हैं. यहां आप महाशिवरात्रि जैसे मौके पर अपने दोस्तों और परिवार के साथ जा सकते हैं. ये मंदिर आपको एक आध्यात्मिक अनुभव देगें. यहां कुछ प्रसिद्ध मंदिरों (Shiv Temples) के बारे में बताया गया है जहां आप महादेव के दर्शन के लिए जा सकते हैं.

श्री सोमनाथ मंदिर

श्री सोमनाथ मंदिर गुजरात में है. सोमनाथ मंदिर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से पहला ज्योतिर्लिंग माना जाता है. कई आक्रमणकारियों और शासकों ने इसे नष्ट करने की कोशिश की लेकिन इस मंदिर को बार-बार बनवाया गया. इसके अलावा ये त्रिवेणी संगम पर स्थित है यानी 3 नदियों कपिला, सरस्वती और हिरण का संगम.

शिवोहम शिवा टेम्पल

कर्नाटक के बेंगलुरु शहर में स्थित इस प्रसिद्ध शिव मंदिर में हर साल बड़ी संख्या में भक्त आते हैं. यहां 65 फीट ऊंची भगवान शिव की एक भव्य मूर्ति है. शिव की सुंदर मूर्ति एक बहुत ही आध्यात्मिक अनुभव देती है. मंदिर में मानव निर्मित गुफाएं भी हैं जहां सभी 12 ज्योतिर्लिंग और चार धामों को दर्शन के लिए बनाया गया है. भजन, लाइट शो और आरती के अलावा शिवोहम शिव मंदिर में मध्यरात्रि में 12 बजे से सुबह 6 बजे तक ध्यान सत्र आयोजित किया जाता है.

काशी विश्वनाथ शिव मंदिर

काशी विश्वनाथ शिव मंदिर पवित्र गंगा नदी के तट पर स्थित है. इसे आक्रमणकारियों के कई बार नष्ट किए जाने के बाद बार-बार पुनर्निर्माण किया गया. ऐसा माना जाता है कि मंदिर में जाने से व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त करने में मदद मिल सकती है. यही कारण है कि हर दिन बड़ी संख्या में लोग यहां का दौरा करते हैं.

केदारनाथ मंदिर

केदारनाथ मंदिर के दर्शन करना एक अनोखा अनुभव है. ये केवल अप्रैल से नवंबर के बीच खुला रहता है. मान्यताओं के अनुसार केदारनाथ मंदिर पांडवों ने बनाया था. ये भारत में 12 ज्योतिर्लिंगों में सबसे ऊंचा है. मंदिर के अंदर भक्त त्रिकोणीय आकार के एक लिंग की पूजा करते हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button