क्राइम न्यूज़ब्रेकिंग न्यूज़

दो वर्षीय मासूम के साथ महिला ने फांसी लगाई

पहले बेटे के गले में कसा फंदा, फिर खुद झूली

महोबा जिले में चरखारी कोतवाली क्षेत्र के सबुआ गांव में बुधवार की दोपहर महिला ने अपने दो वर्षीय मासूम के साथ साड़ी से फांसी का फंदा बनाकर आत्महत्या कर ली। मृतका के पिता ने ससुरालियों पर हत्या का आरोप लगाया है। सबुआ गांव निवासी रविंद्र यादव अपनी चार पहिया गाड़ी चलाकर परिवार का भरण-पोषण करता था। उसने बताया कि बुधवार को वह गाड़ी लेकर बुकिंग पर गया था।
उसके माता-पिता किसी कार्य से पड़ोस में गए थे। दोपहर 12 बजे पत्नी सपना (25) ने सूना कमरा पाकर अपने दो वर्षीय पुत्र बाबू के गले में साड़ी का फंदा बनाकर गले में कस दिया। इसके बाद कच्चे मकान के लट्ठे में उसी साड़ी से खुद भी फांसी लगा ली। कुछ देर बाद घर पहुंचे ससुर किशोरी यादव ने बहू और नाती को फंदे से लटकता देख बचाने की कोशिश की और शोर मचा दिया।
पड़ोसियों के पहुंचने पर दोनों को उतारा गया, तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। सूचना पर सीओ तेज बहादुर व तहसीलदार विपिन कुमार ने घटनास्थल का निरीक्षण किया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। कोतवाली प्रभारी उमापति मिश्रा का कहना है कि पुलिस और ग्रामीणों की मौजूदगी में महिला और उसके पुत्र को फांसी के फंदे से नीचे उतारा गया, लेकिन तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही घटना के सही कारण स्पष्ट हो पाएंगे।
तीन साल पहले हुई थी शादी  रविंद्र की शादी हमीरपुर के सरीला में शत्रुघ्न की पुत्री सपना के साथ तीन साल पहले हुई थी। पिछले चार माह से दंपती गांव छोड़कर कस्बा चरखारी में किराये के मकान रहते थे। मंगलवार को ही पति अपनी पत्नी व बच्चे के साथ गांव चला गया था। 

बेटी का करते थे उत्पीड़न मृतका के पिता शत्रुघ्न सिंह ने कोतवाली चरखारी में दी तहरीर में बताया कि ससुरालीजन पुत्री का उत्पीड़न कर रहे थे। पिछले महीने मायके में शादी कार्यक्रम पर आई बेटी वापस ससुराल नहीं जाना चाहती थी। पति जबरदस्ती उसे ले गया था। 18 अप्रैल को भाई राजेश पुत्री को लेने भी गया था, लेकिन ससुरालियों ने लौटा दिया था। बुधवार को बेटी व उसके दो वर्षीय पुत्र की हत्याकर फांसी पर लटकाकर आत्महत्या का रूप दे दिया गया। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button