स्वास्थ्य

आज का हेल्थ टिप्स: पपीते को इसलिए माना जाता है सुपरफूड, जानिए सेहत को होने वाले इसके अद्भुत लाभ

बीटा-कैरोटीन से भरपूर आहार का सेवन युवाओं में प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम करता है।

पपीता स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। अध्ययनों के मुताबिक, पपीते में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर को कई गंभीर रोगों से सुरक्षित रखने में मदद करता है। पपीते में विटामिन्स और यौगिकों की मौजूदगी होती है। आहार विशेषज्ञ के मुताबिक, कुछ रोगों से ग्रसित होने पर पपीते का नियमित सेवन करना चाहिए। पपीते में एंटी में एंटीऑक्सिडेंट्स की मात्रा अधिक होती है जो कई प्रकार की गंभीर बीमारियों और संक्रमण से सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। कोरोना काल में पपीते को इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए लाभकारी फल माना गया। पपीता विटामिन सी का उत्कृष्ट स्रोत है, जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम भूमिका निभाता है। पेट, पाचन तंत्र, त्वचा की रंगत में निखार और अस्थमा जैसी क्रोनिक बीमारियों में पपीते का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। डायबिटीज में खाएं पपीता डायबिटीज के रोगी को खानपान को लेकर सतर्क रहना पड़ता है। पपीते का सेवन डायबिटीज रोगियों के लिए अच्छा विकल्प है। अध्ययनों के मुताबिक, टाइप-1 मधुमेह रोगियों को उच्च फाइबर वाले आहार का सेवन करना चाहिए। इससे रक्त शर्करा का स्तर कम हो सकता है। पपीते में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है। विशेषज्ञों के मुताबिक, पपीते में लाइकोपीन यौगिक पाया जाता है, जो कैंसर के खतरे को कम कर सकता है। जिन मरीजों का कैंसर का इलाज चल रहा है, उनके लिए पपीते का सेवन फायदेमंद है। इसके अलावा पपीते में एंटीऑक्सीडेंट बीटा-कैरोटीन भी पाया जाता है हड्डियां होती हैं मजबूती पपीते के सेवन से हड्डियां मजबूत बनती है। पपीता शरीर में विटामिन सी की कमी को दूर करता है। विटामिन सी की कमी से हड्डी टूटने का खतरा अधिक होता है। पपीते में विटामिन-के और कैल्शियम की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है। उम्र संबंधी शिकायत से राहत  शरीर में कब्ज की शिकायत होने पर रोजाना पपीते का सेवन करना चाहिए। इससे पेट साफ रहता है। पेट दर्द, कब्ज में पपीता लाभकारी होता है। साथ ही त्वचा को भी सेहतमंद रखता है। आंखों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए पपीता खाना चाहिए। पपीता शरीर में पानी की कमी को भी दूर करता है।  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button