राजनीति

सुरक्षा में चूक के बाद 14 फरवरी को पंजाब में PM मोदी की रैली,

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14, 16 और 17 फरवरी को पंजाब में चुनावी रैलियों को संबोधित करने वाले हैं

जिसमें मालवा, दोआबा और माझा के तीनों इलाके कवर होंगे। वह 14 फरवरी को जालंधर में, दूसरी 16 फरवरी को पठानकोट में और 17 फरवरी को अबोहर में तीसरी जनसभा को संबोधित करेंगे। वहीं किसानों ने उनकी यात्रा का बहिष्कार करने की योजना बनाई है। कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने शुक्रवार को कहा था कि पीएम को हेलीकॉप्टर या विमान से पंजाब का दौरा करना चाहिए, क्योंकि अगर वह राज्य में सड़क मार्ग से यात्रा करने का विकल्प चुनते हैं तो उन्हें समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। कांग्रेस नेता ने कहा कि राज्य के लोग यह नहीं भूले हैं कि उन्होंने एक साल से अधिक समय सड़कों पर बिताया। ‘एक साल तक पंजाबी को सड़क पर खड़ा रखा’ बिट्टू ने कहा, “उनका स्वागत है। हमने लोगों से कहा है कि प्रधानमंत्री की बात सुनें। उन्हें हवाई मार्ग से आना चाहिए। उन्हें अभी भी सड़क मार्ग से समस्या हो सकती है, क्योंकि उन्होंने एक साल से अधिक समय से हर पंजाबी को सड़क पर रखा है। वे कैसे भूलेंगे? विरोध के दौरान 700 से अधिक किसानों की मौत हो गई।” फ्लाईओवर पर 15-20 मिनट तक फंसे रहे PM मोदी पिछले महीने पीएम मोदी के पंजाब के फिरोजपुर जाते समय कुछ प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम कर दिया था। इसके कारण प्रधानमंत्री एक फ्लाईओवर के ऊपर 15-20 मिनट तक फंसे रहे। गृह मंत्रालय ने सुरक्षा चूक की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस इंदु मल्होत्रा ​​की अध्यक्षता में 12 जनवरी को समिति गठित की और इसे पीएम की सुरक्षा में बड़ी चूक करार दिया। सुरक्षा चूक पर केंद्र और पंजाब सरकार की अलग-अलग जांच सुरक्षा चूक के बाद केंद्र और पंजाब सरकार ने अलग-अलग जांच शुरू की। पंजाब ने रिटायर्ड जस्टिस मेहताब सिंह गिल और गृह सचिव अनुराग वर्मा की कमेटी बनाई। जबकि केंद्र ने इंटेलिजेंस ब्यूरो और एसपीजी अधिकारियों के साथ सुरक्षा सचिव की अध्यक्षता में जांच समिति भी बनाई। केंद्रीय समिति ने पहले ही जांच शुरू कर दी थी।  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button