विदेश

फ्रांस का कहना है कि यूक्रेन संकट पर बाइडेन-पुतिन मिलने के लिए सहमत

फ्रांस का कहना है कि यूक्रेन संकट पर एक शिखर सम्मेलन के लिए राष्ट्रपति माक्रों के प्रस्ताव को अमेरिकी और रूसी राष्ट्रपतियों ने स्वीकार कर लिया है

फ्रांस का कहना है कि यूक्रेन संकट पर एक शिखर सम्मेलन के लिए राष्ट्रपति माक्रों के प्रस्ताव को अमेरिकी और रूसी राष्ट्रपतियों ने स्वीकार कर लिया है.फ्रांसीसी राष्ट्रपति भवन और व्हाइट हाउस द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और उनके रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन पर अमेरिका-रूस शिखर सम्मेलन में फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमानुएल माक्रों के एक प्रस्ताव पर सहमति जताई थी. यूक्रेन संकट की छाया में हो रहा है म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन सोमवार को फ्रांस के राष्ट्रपति भवन से एक बयान में कहा गया कि “माक्रों ने रविवार को बाइडेन और पुतिन दोनों से फोन पर बात की और दोनों ने सैद्धांतिक रूप से शिखर सम्मेलन का निमंत्रण स्वीकार कर लिया है” इसमें साथ ही कहा गया कि यह शिखर सम्मेलन तभी होगा जब रूस यूक्रेन पर हमला नहीं करेगा. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने एक बयान में कहा कि वॉशिंगटन ने पुष्टि की है कि वह हमला शुरू होने तक अपनी कूटनीति जारी रखेगा. बयान के मुताबिक, “राष्ट्रपति बाइडेन ने राष्ट्रपति पुतिन के साथ बैठक को सैद्धांतिक रूप से स्वीकार कर लिया है. अगर कोई हमला नहीं होता है” इस बीच अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन और रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने गुरुवार को अमेरिका-रूस शिखर सम्मेलन के एजेंडे और अन्य विवरणों पर चर्चा करने के लिए मिलने वाले हैं. जर्मन चांसलर से मुलाकात के बाद पुतिन ने कहा, यूरोप में युद्ध नहीं चाहते ताजा घटनाक्रम पर बाइडेन द्वारा कहा गया था कि उनका मानना ​​​​है कि पुतिन ने अगले कुछ दिनों में यूक्रेन पर आक्रमण करने का फैसला किया है मॉस्को ने आरोपों से इनकार किया है. इससे पहले रविवार को माक्रों और पुतिन के बीच करीब दो घंटे की टेलीफोन बातचीत के बाद दोनों नेता यूक्रेन गतिरोध के समाधान की तलाश में तेजी लाने पर सहमत हुए. माक्रों के दफ्तर ने कहा कि दोनों नेता मौजूदा संकट का कूटनीतिक समाधान खोजने के पक्ष में हैं और इसके बारे में कुछ भी करेंगे. इस बीच पुतिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने दोहराया कि रूस का यूक्रेन पर हमला करने का कोई इरादा नहीं है. उन्होंने कहा कि पश्चिम को यह समझना चाहिए. एए/सीके (एएफपी, एपी, डीपीए)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button