देशब्रेकिंग न्यूज़

फर्रुखाबाद की जिला जेल में कैदियों ने रखा नवरात्रि का व्रत

बंदी भले ही समाज की मुख्यधारा से कटकर जेल में हों, लेकिन वे भी धार्मिक व आध्यात्मिक भावना से ओतप्रोत हैं। शारदीय नवरात्र में जेल के 70 बंदियों ने व्रत रखकर देवी की आराधना की। इनमें 3 मुस्लिम बंदी सहित 4 महिला बंदी शामिल हैं।

बंदी भले ही समाज की मुख्यधारा से कटकर जेल में हों, लेकिन वे भी धार्मिक व आध्यात्मिक भावना से ओतप्रोत हैं। शारदीय नवरात्र में जेल के 70 बंदियों ने व्रत रखकर देवी की आराधना की। इनमें 3 मुस्लिम बंदी सहित 4 महिला बंदी शामिल हैं। कारागार प्रशासन ने इन बंदियों के लिए फलाहार की भी व्यवस्था कर रहा है।उन्हें पूजन सामग्री के साथ ही अन्य जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराया गया है। बंदियों के पूजा-पाठ में कोई खलल न पड़े, इस बात पर भी जेल प्रशासन ध्यान दे रहा है। कारागर परिसर में ही माँ भगवती की मूर्ति की स्थापना कर पूजा-अर्चना कर अपने दिन की शुरुआत कर रहे हैं।

जेल शब्द सुनते ही हर किसी के जहन कैद ,चार दिवारी, अंधेरा, जेलर का कैदियों पर चिल्लाना यही सब आता है लेकिन बदलते समय के साथ ही जेल में भी कई तरह के बदलाव देखने को मिले हैं। न सिर्फ जेल बल्कि कैदियों ने भी अब खुद को सुधारने के लिए प्रयास करना शुरू कर दिया है। बदलते दौर के साथ जेल में बदलाव का कुछ ऐसा ही नजारा उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद की जिला जेल में देखने को मिला है। प्रथम दिन जिला जज श्री अश्वनी कुमार त्रिपाठी, जिलाधिकारी श्री संजय कुमार सिंह एवम पुलिस अधीक्षक श्री अशोक कुमार मीणा द्वारा सयुक्त रूप से मां दुर्गा की मूर्ति पर माल्यार्पण कर विधि विधान से पूजा अर्चना कर नवरात्रि पूजन का कारागार में शुभारंभ किया गया । फतेहगढ़ जिला जेल में बंद 3 मुस्लिम बंदी सहित 4 महिलाओं समेत कुल 70 कैदी नवरात्रि में नौ दिन का उपवास रख रहे हैं। तीन मुस्लिम बंदियों कासिम पुत्र ग्यासुद्दीन, चांद अंसारी पुत्र सलीम अंसारी और सिराज पुत्र निसार द्वारा भी पूर्ण श्रद्धा के साथ मां दुर्गा के व्रत रखे है मुस्लिम बंदी भी हिंदू बंदियों के साथ ही पूजा पाठ , आरती और भजन गायन कर रहे है ।

जेल अधिकारियों ने इन कैदियों के लिए खास बंदोबस्त भी किए हैं। उन्हें नियमित रूप से 500 ग्राम उबले हुए आलू के साथ दो केले, आधा लीटर दूध व अन्य फलाहार उपलब्ध कराया जा रहा। फलाहार बनाने में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। जेल अधीक्षक भीम सेन मुकुंद ने बताया कि बंदियों की आस्था का पूरा सम्मान किया जा रहा है। नवरात्र में कई बंदियों ने नौ दिन का व्रत शुरू किया है। कई बंदी पहले और आखिरी दिन व्रत रखेंगे। ऐसे बंदियों के लिए पूजन सामग्री के साथ फलाहार की व्यवस्था की गई है।कारागर परिसर में ही माँ भगवती की मूर्ति की स्थापना कर पूजा-अर्चना कर अपने दिन की शुरुआत कर रहे हैं। माँ दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन 05 अक्टूवर विजय दशमी के दिन किया जायेगा। रिपोर्ट – रघुवंश दुबे

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button