अन्यदेशब्रेकिंग न्यूज़

सम्भल में सैकड़ों वर्षो से निकाला जा रहा है जुलूस ए मौहम्मदी

9 अक्टूबर को निकलने वाले जुलूस ए मौहम्मदी की तैयारियां जोरों पर हैं। अकीदतमंद दो महीनों से दिन रात मेहनत करके जुलूस में शामिल होने वाले नक्शे बनाने में लगे हैं। वहीं दूसरी ओर ईद मिलादुन्नबी पर झंडे व अन्य डेकोरेशन का समान की दुकानें सजने लगी है।

सम्भल में ईद मिलादुन्नबी का जुलूस सैकड़ों वर्ष से निकाला जा रहा है। बुजुर्गों के बाद जुलूस की कमान युवाओं के हाथ में आ गई है। लगभग 25 वर्षों से युवा इस जुलूस को शानो शौकत के साथ निकाल रहे हैं। जुलूस में शामिल नक्शे बनाने को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं। जिम्मेदार दिन रात मेहनत करके नक्शे बनाने में लगे हुए हैं। खाने काबा, मदीना मुनव्वरा, ख्वाजा गरीब नवाज, वारिस ए पाक, साबिर साहब का रोजा मुबारक के अलावा अन्य नक्शे पर भी काम जारी है।

जुलूस ए मोहम्मदी जगत चमन सराय पीपल के नीचे से शुरू होकर अस्पताल का चौराहा, दरीबा, आर्य समाज रोड, खग्गू सराय से दीपा सराय चौक में जाकर संपन्न होता है। जुलूस ए मोहम्मदी की तैयारियों को लेकर बाजार भी गुलजार होने लगे हैं। बाजारों में इस्लामिक झंडों के साथ डेकोरेशन का समान भी खूब जमकर बिक रहा है। ईद मिलादुन्नबी के मौके पर झंडो की बिक्री ज्यादा है। मार्केट में 50 रुपये से लेकर 150 रुपये तक के झंडे हैं। झंडो के साथ-साथ डेकोरेशन रील की ज्यादा डिमांड है।

  बाईट – मौहम्मद फ़ाज़िल, कारीगर बाईट – मौहम्मद ज़की हुसैन, दुकानदार  
  रिपोर्टर – उवैस दानिश

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button